Saturday , 14 December 2019
जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर बिना परमिट संचालित हो रहीं प्राइवेट बसों को बंद करने की मांग

जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर बिना परमिट संचालित हो रहीं प्राइवेट बसों को बंद करने की मांग

कोन (सोनभद्र) : प्राइवेट बस आपरेटर एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर जिले में बिना परमिट संचालित हो रहीं प्राइवेट बसों को बंद करने की मांग की है. ऐसी बसों का संचालन न रोके जाने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई है.अध्यक्ष राकेश तिवारी की अगुवाई वाले प्रतिनिधिमंडल ने डीएम एस राजलिगम को ज्ञापन सौंपा है. उनका कहना है कि रेणुकूट से पटना तक चलने वाली दो स्लीपर बसों का संचालन बिना परमिट के धड़ल्ले से किया जा रहा है. बताया कि तेलगुड़वा से कोन, विढमगंज, दुद्धी होते मुर्धवा (रेणुकूट) तक अराष्ट्रीयकृत मार्ग है. इस मार्ग पर 80 बसों का संचालन होता है. सभी बसों का उक्त मार्ग पर चलने का परमिट भी परिवहन विभाग से लिया गया है. हाल ही में बिहार से पंजीकृत दो बसों का संचालन रेणुकूट से पटना के लिए शुरू हुआ है. ये बसें तय समय पर बिना परमिट के चल रहीं हैं. उक्त बसों का मालिक काफी दबंग है और सभी स्टैंड पर दबंग लोगों को एजेंट के रूप में नियुक्त किया है. जो बस संचालन रोकने वालों को धमकी देते हैं और कहते हैं कि यह बस चलेगी. इसकी वजह से परमिट शुदा बसों को काफी क्षति हो रही है तथा आए दिन वाद विवाद की स्थिति उत्पन्न हो रही है. प्राइवेट बस संचालक अपने बसों का टैक्स आदि का भुगतान समय से कर सकें व वाद-विवाद की स्थिति न उत्पन्न हो, इसके लिए डग्गामार बसों का संचालन रोका जाना न्यायसंगत होगा. इसमें मनदीप जायसवाल, विनोद सिंह, घनश्याम प्रसाद, ईश्वरी प्रसाद, विकास, रोशन कुमार आदि थे.