Tuesday , 11 December 2018
बीएसई के कमोडिटीज सेगमेंट में अब तक का सबसे उच्च दैनिक कारोबार

बीएसई के कमोडिटीज सेगमेंट में अब तक का सबसे उच्च दैनिक कारोबार

मुंबई, 10 अक्टूबर (उदयपुर किरण). बीएसई के कमोडिटीज सेगमेंट में अब तक का सबसे उच्च दैनिक कारोबार दर्ज किया गया है. बीएसई की ओर से बताया गया कि 8 अक्टूबर 2018 को कुल 196 करोड़ रुपए का टर्नओवर कमोडिटीज सेगमेंट में पूरा हो चुका है. बीएसई की ओर से जल्द ही बेस मेटल कॉन्ट्रैक्ट्स भी शुरू किए जाएंगे. बीएसई ने सेबी के पास तांबा और कच्चे तेल के अनुबंध के लिए भी आवेदन किया है.

बीएसई की ओर से ही हाल हमोडिटीज डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म शुरू किया गया है. इस प्लेटफॉर्म पर सोने और चांदी के अनुबंधों में वायदा कारोबार किया जाता है. सोमवार, 8 अक्टूबर 2018 को शाम 6 बजे तक इस प्लेटफॉर्म पर कुल 196 करोड़ रुपए के दैनिक कारोबार किया गया. यह टर्नओवर अब तक का उच्चतम स्तर है. सोने के वायदा अनुबंधों के तहत 162.88 करोड़ रुपए के टर्नओवर किए गए. निवेशकों ने 519 लॉट में कारोबार किया, जबकि चांदी के अनुबंधों के तहत कुल 28.65 करोड़ रुपए का टर्नओवर किया गया. सिल्वर सेगमेंट के तहत एक दिन में कुल 289 लॉट का कारोबार किया गया. बीएसई भारतीय घरेलू मार्केट में अब दूसरा सबसे बड़ा वस्तु विनिमय मंच बन गया है.

बीएसई ने सेबी की मंजूरी पाने के बाद स्वर्ण (1 किलो) और चांदी (30 किग्रा) सेगमेंट में डिलीवरी आधारित वायदा अनुबंध लॉन्च किया था. प्रमुख बाजार विनिमय संस्था सेबी ने 1 अक्टूबर 2018 को बीएसई को कमोडिटी डेरिवेटिव्स में व्यापार करने की मंजूरी दी थी. बीएसई की ओर से कारोबारियों को आकर्षित करने के लिए कमोडिटीज डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर सभी प्रकार के लेन-देन शुल्कों को निःशुल्क करने की घोषणा की थी. बीएसई की इस पहल ने दलालों और व्यापारियों समेत कई प्रतिभागियों को ट्रेडिंग के लिए आकर्षित किया है. बीएसई के पास फिलहाल 442 कारोबारियों की सूची है, जिन्होंने इस प्लेटफॉर्म पर कारोबार शुरू करने को सहमति जताई है. बीएसई ने कमोडिटी डेरिवेटिव सेगमेंट में फिलहाल 145 ट्रेडिंग सदस्यों और 27 समाशोधन सदस्यों को पंजीकृत किया है.

बीएसई के कई कारोबारी सदस्यों और ट्रेडरों ने इस सेगमेंट में एल्गोरिदम व्यापार शुरू करने की मंशा जताई है. हालांकि बीएसई की ओर से कुछ सदस्यों को पहले ही एल्गोरिदम व्यापार शुरू करने की मंजूरी दी जा चुकी है. जल्द ही इस प्लेटफॉर्म पर आधार धातु अनुबंध (बेस मेटल कॉन्ट्रैक्टस) और कृषि वस्तुओं की ट्रेडिंग को भी शुरू करने की योजना बनाई गई है. बीएसई की ओर से कई संगठनों के साथ सहयोगात्मक करार किया गया है. इसके अलावा बीएसई ने प्रमुख आधार धातु-केंद्रित वस्तुओं के आदान-प्रदान करनेवाले लंदन मेटल एक्सचेंज के साथ भी लाइसेंस आधारित समझौता करार किया है.

इसके अलावा बेस मेटल कॉन्ट्रैक्ट्स के लिए बॉम्बे मेटल एक्सचेंज और राजकोट कमोडिटी एक्सचेंज, फेडरेशन ऑफ इंडियन स्पाइस स्टॉकहोल्डर्स, सोयाबीन प्रोसेसर एसोसिएशन ऑफ इंडिया और कपास एसोसिएशन ऑफ इंडिया के साथ कृषि वस्तुओं को लॉन्च करने के लिए भी करार किया गया है. बीएसई ने सेबी के पास तांबा और कच्चे तेल के अनुबंध के लिए भी आवेदन किया है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*