Monday , 22 October 2018

ओडिशा में चक्रवाती तूफान ‘तितली’ को लेकर हाई अलर्ट, शिक्षण संस्थान बंद

भुवनेश्वर. चक्रवाती तूफान तितली के खतरे के मद्देनजर ओडिशा सरकार ने राज्य के तटीय जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया है और पांच जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों को लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिये हैं. तितली के गुरुवार सुबह गोपालपुर तट तक पहुंचने का अनुमान है.
मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में यहां वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की समीक्षा बैठक में तितली के संभावित असर को लेकर चर्चा की गयी तथा अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए सभी अावश्यक कदम उठाने के निर्देश दिये गये कि तूफान के कारण कोई जनहानि नहीं हो.
राज्य सरकार पहले ही 17 जिलों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल(एनडीआरएफ) की 10 और ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल(ओडीआरएएफ) की आठ टीमों को तैनात कर चुकी है. इसके साथ ही किसी संभावित घटना के मद्देनजर तट रक्षक दल, भारतीय वायुसेना और नाैसेना की सहायता के लिए केंद्र से कहा गया है. गोपालपुर तट और गंजम जिले की ओर तितली के तेजी से बढ़ने के कारण मौसम विभाग पहले ही सात तटीय जिलों में ‘रेड वार्निंग’ और आठ जिलों में ‘आरेंज वार्निंग ’ जारी कर चुका है.
राज्य सरकार ने सभी शैक्षणिक संस्थानों और आंगनबाड़ी केंद्रों को 11 और 12 अक्टूबर को बंद रखे जाने की घोषणा की है तथा गुरुवार को कालेजों में हाेने वाले छात्रसंघ चुनावों को रद्द कर दिया है. इसके साथ ही सभी अधिकारियों के अवकाश रद्द करते हुए उन्हें तत्काल अपने मुख्यालयों में रिपोर्ट देने तथा तितली के प्रवेश के बाद राहत एवं बचाव अभियान में जुट जाने के निर्देश दिये गये हैं.
मौसम विभाग के मुताबिक तितली तूफान 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है और इसके अगले 12 घंटे में और विकराल रूप धारण करने की आशंका है. विभाग के अधिकारियों ने बताया कि तूफान गोपालपुर और कलिंगपत्तनम के बीच गुरुवार की सुबह तट से टकरायेगा. उसके बाद इसके उत्तर-पूर्व की ओर मुड़कर ओडिशा के उत्तरी हिस्से से होते हुये पश्चिम बंगाल में गंगा के मैदानी इलाकों की ओर बढ़ने का अनुमान है. गुरुवार आधी रात तक यह बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान से चक्रवाती तूफान में और उसके बाद गहरे दबाव के क्षेत्र में बदल जाएगा.
गुरुवार सुबह 5.30 बजे से पूर्वाह्न 11.30 बजे तक प्रभावित इलाकों में 140 किमी से 150 किमी के बीच की रफ्तार से हवाएँ चलने के आसार हैं. गुरुवार को ओडिशा में अधिकतर स्थानों तथा उत्तरी तटीय आँध्र प्रदेश में कई स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी गयी है. आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम , विजयनगरम और श्रीकाकुलम तथा ओडिशा के गजपति, गंजम, खुर्दा, नयागढ़ और पुरी जिलों में तूफान से नुकसान की आशंका है. इन इलाकों में मछुआरों को 11 अक्टूबर तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*