Saturday , 20 October 2018

बहामास में दुर्लभ जीवों के अलावा शार्क की 13 से ज्यादा प्रजातियां हैं, इन पर रिसर्च के लिए विशेष लैब भी है

यह फोटो बहामास के मशहूर पर्यटन केंद्र बिमिनी की है. यह छोटे दांतों वाली सॉ फिश, तेजी से भागने वाली छिपकली और अमीवा जैसी दुर्लभ और विलुप्त होती जा रही प्रजातियों के संरक्षण का महत्वपूर्ण केंद्र है. इसके अलावा यह इलाका यहां पाई जाने वाली 13 से ज्यादा प्रजातियों की शार्क के लिए भी मशहूर है. खास बात यह है कि यहां शार्क पर रिसर्च के लिए एक विशेष शार्क लैब बनाई गई है, जो दुनिया भर के मरीन बायोलॉजी के छात्रों को इंटर्नशिप भी मुहैया करवाती है. 2010 की जनगणना के मुताबिक तब इस इलाके की जनसंख्या महज 1988 थी. इस फोटो को बहामास के फोटोग्राफर आंद्रे मस्ग्रोव ने लिया है. वे अंडरवाटर, स्ट्रक्चर और ट्रैवल फोटोग्राफी के अलावा फ्रीडाइवर और स्कूबा डाइविंग के ट्रेनर भी हैं. इस फोटो में शार्क के सामने बैठे उनके मित्र डेविड लैंगलॉइस हैं, जो डाइवर हैं. दरअसल, ये शार्क समुद्र की तलहटी में आराम कर रही हैं. ऐसा नजारा कभी-कभार ही देखने को मिलता है. @Andremusgrove.com

http://udaipurkiran.in/hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*