Friday , 16 November 2018

कड़ी सुरक्षा में हो रही शिक्षक भर्ती परीक्षा फिर भी नकल हो रहीनकलची पकड़ा, जेल भेजा

जोधपुर, 29 अक्टूबर (उदयपुर किरण). राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से वरिष्ठ अध्यापक ग्रेड सेकंड प्रतियोगी परीक्षा 2018 के दूसरे दिन भी कड़ी सुरक्षा रही. यह परीक्षा रविवार से शुरू हो गई थी. इस परीक्षा में नकल रोकने के लिए कड़े बंदोबस्त किए गए है. इसके बावजूद परीक्षार्थी नकल करने के लिए विभिन्न माध्यम अपना रहे हैं. रविवार को एक परीक्षार्थी नकल करते पकड़ा गया था. उसे सोमवार को अदालत के आदेश पर जेल भेज दिया गया है. वह पर्ची से नकल कर रहा था तब पर्यवेक्षक ने उसे पकड़ लिया. बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया.

दरअसल वरिष्ठ अध्यापक (माध्यमिक शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा (नॉन टीएसपी व टीएसपी) 2018 रविवार को शुरू हुई थी. रविवार को इस परीक्षा का आयोजन सुबह की पारी में दस से दोपहर बारह बजे तक किया गया था. इस दौरान बनाड़ आर्मी एरिया की चिल्ड्रन एकेडमी स्कूल में एक परीक्षार्थी पर संदेह जताया गया. तब परीक्षा केंद्र के पर्यवेक्षक हरिराम सोऊ ने उसकी तलाशी ली. तब उसके पास एक पर्ची मिली लेकिन उसने नदारद कर दी. इस पर कैमरे की रिकॉर्डिंग में वह पकड़ा गया. पकड़ा गया परीक्षार्थी जयपुर के आमेर पुलिस थाना क्षेत्र के काक रेली का रहने वाला नाथूलाल मीणा पुत्र पप्पूराम है.

इस संबंध में बनाड़ थाने में मामला दर्ज किया गया. उसे अदालत में पेश किया जहां से उसे जेल भेजने के आदेश हुए. मामले की जांच एसआई प्रहलादसिंह की तरफ से की जा रही है. सोमवार को एेच्छिक विषयों के प्रश्न पत्रों की परीक्षा प्रात: नौ बजे से 11.30 बजे एवं दोपहर तीन बजे से शाम 5.30 बजे तक दो-सत्रों में हुई. तीस अक्टूबर, एक नवंबर व दो नवंबर को भी यह परीक्षा होगी. एेच्छिक विषय हिन्दी, विज्ञान, संस्कृत एवं उर्दू हेतु सामान्य ज्ञान की परीक्षा 31 अक्टूबर को आयोजित होगी. बता दे कि यह परीक्षा 8 हजार से अधिक पदों के लिए आयोजित की जा रही है. परीक्षा दो नवंबर तक विभिन्न पारियों में आयोजित की जाएगी.

नकल रोकने के लिए परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों की गहनता से जांच की जा रही है. केंद्रों पर स्कूल स्टाफ के साथ ही पुलिसकर्मी भी अभ्यर्थियों की जांच कर रहे है. महिला अभ्यर्थियों के पहने हुए जेवर उतरवाए जा रहे है. कई स्कूलों के बाहर महिला अभ्यर्थियों द्वारा पहनकर आए गए गहनों को खोलने की कोई सुविधा नहीं थी. एेसे में कई अभ्यर्थियों को नाक, कान और पैर के जेवर खोलने के इधर-उधर भटकना पड़ा. कई महिलाएं हाफ स्लीव कुर्ता पहनकर आईं तो उनको परीक्षा केंद्र से वापस भेज दिया. महिलाओं द्वारा हाथ की स्लीव कटवाने के बाद ही उन्हें परीक्षा केंद्र पर प्रवेश की अनुमति दी गई. वहीं महिलाओं के सुहाग की निशानी बिछुडिय़ां, मंगलसूत्र आदि उतरवा लिए गए.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*