Friday , 16 November 2018

टिकट की आस, सोशल मीडिया पर बिछा रहे बिसात, हर कोई बना रहा टीम, सोशल मीडिया पर दिखा रहे सक्रियता

फेसबुक, व्हाट्स व ट्वीटर पर दिखेगी रोमांचक जंग

चित्तौडग़ढ़, 31 अक्टूबर (उदयपुर किरण). वर्तमान में इस दौर में हर कोई चुनाव में प्रचार के लिए सोशल मीडिया को प्रमुख हथियार मान रहा है. एक जमाना था जब हाथ से बनाए पोस्टर व झंडिया लगती थी. अब सोशल मीडिया कम खर्च पर कम समय में अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने का माध्यम बन गया है. ऐसे में हर कोई सोशल मीडिया का उपयोग कर अपनी दावेदारी को पूख्ता करने में जूटा हुआ है. दोनों ही राजनीतिक दलों से चेहरे फाइनल नहीं हुए हैं. कई राजनेता तो ऐसे हैं, जिनके सोशल मीडिया पर काफी समय से एकाउंट होकर कई फोलोवर्स है. वहीं बरसात में मेंढक निकलते हैं यह वाली कहावत इन दिनों सोशल मीडिया पर राजनीतिक दलों से जुड़े दावेदारों को लेकर देखने को मिल रही है. हर कोई अपने नाम से एकाउंट बना कर लोगों को जोडऩे में जुट गए हैं. इससे कि टिकट मिलता है तो लोगों तक अपनी बात पहुंचाने में आसानी रहेगी.

वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनावों में भाजपा व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जीत का श्रेय पार्टी कार्यकर्ताओं को मिला उससे कहीं अधिक उनकी सोशल इंजीनियरिंग को मिला था. इसके बाद सोशल मीडिया को प्रचार के लिए एक हथियार के रूप में पूरे देश में काम में लिया जाने लगा है. मोबाइल कॉलिंग कम्पनियों की ओर से सस्ती की गई दरों के बाद इंटरनेट व सोशल मीडिया का उपयोग तेजी से बढ़ा है. हर व्यक्ति व विशेष तौर पर युवा के हाथ में एंड्रोइड मोबाइल देखने को मिल रहा है. ऐसे में वर्ष 2018 का विधानसभा चुनाव भी इससे कहां अछूता रहता. आचार संहिता लगने के बाद से सोशल मीडिया पर विभिन्न राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों व दावेदारों की फोटो लगी पोस्ट देखने को मिल रही है. वहीं आचार संहिता के बाद से जिले की पांच ही विधानसभा क्षेत्रों से कई नए दावेदार सामने आए हैं.

नित नए लोग दोवदारी जता रहे हैं. दावेदारी जताने के साथ ही सोशल मीडिया फेसबुक व व्हाट्सप पर भी एकाउंट बना कर लोगों को जोड़ रहे हैं. कोई टीम बड़ीसादड़ी बना रहा है तो कोई कपासन ग्रामीण. दोनों ही दलों से जुड़े दावेदार इसमें पीछे नहीं है. लोगों को धड़ाधड़ फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी जा रही है. यह सब तक हो रहा है जबकि टिकट फाइनल नहीं हुए हैं. ऐसे में इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि विधानसभा चुनावों में रोमांचक सोशल वार देखने को मिलेगी. जिसने भी दावेदारी जताई उसने अपना फेसबुक पर अलग से एकाउंट बना कर पोस्ट करना शुरू कर दिया है. ऐसे में चुनाव मतदान व मतगणना तक सोशल मीडिया पर राजनेताओं की बिछात देखने का भी अलग आनंद आएगा.

पहले से ही है सोशल साइड पर जुड़ाव

जानकारी में सामने आया कि दोनों ही दलों के जनप्रतिनिधि एवं राजनेता तो ऐसे हैं, जिनके सोशल साइड पर काफी लम्बे समय से एकाउंट बने हुए हैं तथा निरंतर सक्रिय होकर लगातार पोस्ट कर रहे हैं. ऐसे में इनके फोलोवर्स एवं फ्रेंड्स की संख्या भी अच्छी तादाद में है. इनमें मुख्य रूप से यूडीएच मंत्री, सांसद, विधायक, कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष, पूर्व विधायक, भाजपा जिलाध्यक्ष व कुछ दावेदार जो काफी समय से तैयारी में जुटे हुए थे वे शामिल है.

अकाउंट तो थे लेकिन अब हुए सक्रिय

अधिकांश दावेदार ऐसे हैं, जिनके सोशल साइड पर अकाउंट तो काफी समय से बने हुए हैं लेकिन सक्रिय नहीं थे. जैसे ही चुनाव में दावेदारी का मौका आया एक माह से रोज एक ना एक पोस्ट कर अपने चहेतों व अपनी विधानसभा क्षेत्र के लोगों को लुभाने में जुट गए हैं. जिनके अकाउंट है उन्होंने भी अपनी विधानसभा के नाम से नए-नए अकाउंट बना लिए है. ऐसे में विधानसभा चुनाव के बाद फेसबुक के ये अकाउंट बंद हो जाएगा. इसी सोच के चलते कुछ युवा फ्रेंड रिक्वेस्ट भी असेप्ट नहीं कर रहे.

चित्तौड़ विधानसभा में साइबर सेल कर रही रोचक पोस्ट

दावेदार भले ही अब फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने में व्यस्त हो लेकिन फेसबुक पर इन दिनों चित्तौडग़ढ़ विधानसभा क्षेत्र में रोचक एवं सवाल-जवाब वाली पोस्ट देखने को मिल रही है. दावेदारों के साइबर योद्धा एक से बढ़ कर एक पोस्ट कर अपने नेता को ऊपर दिखाने में जुटे हुए हैं. विशेष तौर पर चित्तौडग़ढ़ सोशल साइड पर चित्तौडग़ढ़ विधानसभा क्षेत्र के दावेदार अधिक सक्रिय है. वर्तमान विधायक, पूर्व विधायक, पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष की सक्रियता अधिक है. इतनी सक्रियता जिले की अन्य विधानसभा क्षेत्रों में देखने को नहीं मिल रही है.

सोशल मीडिया पर चुनाव आयोग की नजर

इधर, चुनाव आयोग पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि सोशल मीडिया पर निर्वाचन आयोग की विशेष नजर रहेगी. इस पर आने वाली पोस्ट को ध्यान से देखा जाएगा. विवादास्पद अथवा प्रभावित करने वाली पोस्ट हुई तो उस पर कार्रवाई भी हो सकती है. जिला निर्वाचन अधिकारी के निर्देशन में गठित टीमें सोशल मीडिया पर होने वाली पोस्ट पर भी नजर रखे हुए है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*