Wednesday , 14 November 2018

लक्ष्मी पूजन चौपड़ की मांग घटी

मुंबई 7 नवंबर (हि स). दीपावली पर्व पर अधिकतर अमावस्या पर ही लक्ष्मीजी का पूजन होता रहा है. आम घरों के बाद व्यापारी वर्ग भी अपने प्रतिष्ठानों में शुभ महुर्त पर श्री लक्ष्मीजी की यथा संभव रीती रिवाज से सुख समृद्धि से पूजन करता है. इसके लिए निर्धारित चौपड़ी पर लक्ष्मीजी की प्रतिमा लगाई जाती है. मगर समय के साथ -साथ सारी चीजे डिजिटल होने से श्री लक्ष्मीजी की चौपड़ी की मांग कम हो गई है.
प्रत्येक दीवाली पर लक्ष्मीजी का व्यापारिक प्रतिष्ठानों में पूजन इसलिए भी किया जाता है कि उनकी अनुकम्पा हमेशा ही उनके व्यवसाय पर बनी रहे.इस वर्ष ठाणे शहर में दीपावली के 3 -4 दिन पूर्व से ही लक्ष्मीजी की चौपडी बाजार में उपलब्ध नहीं है. साधारणतः यह चौपड़ सभी साइज़ में मिलती है. इसकी दर भी 120 रुपये से 350 रुपये तक रहती है. चौपड़ी के प्रथम पेज पर लक्ष्मीजीकी तस्वीर बनी रहती है.
हिन्दू वर्ष की शुरुवात ही गुड़ी पड़वा से मानी जाती है प्रत्येक व्यापारी इस चौपड़िया को अत्यंत शुभ मानता है. परन्तु अब सारा डाटा ही कंप्यूटर में संगृहित होने से इस चौपड़ी की मांग काम होती जा रही है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*