Wednesday , 14 November 2018

आग से तीन मंजिला शोरूम सहित छह दुकानों में रखा करोड़ों का सामान जला

पाली, 08 नवम्बर (उदयपुर किरण). शहर के सर्राफा बाजार के निकट स्थित गादिया मार्केट में बुधवार रात करीब ढाई बजे अज्ञात कारण से आग लग गई. मौके पर पहुंचे दमकलकर्मियों ने करीब साढ़े चार घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक तीन मंजिला शोरूम व छह दुकानों में रखा करोड़ों रुपए की साडिय़ां, वेश, शेरवानी, साफे आदि जलकर स्वाहा हो गया. अपनी मेहनत की कमाई को यूं धूं-धूं करते हुए जलते देख दो व्यापारियों की आंखों से आंसू छलक गए. जिन्हें लोगों ने संभाला. हादसे की सूचना पर पुलिस, प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे. आग लगने के दो कारण सामने आए है. पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया कि दीपावली को लेकर किसी दुकानदार ने दुकान में ही पूजा की ओर बाद में घर चले गए. दीपक दुकान में रखी गादी पर गिरने से आग लगी होगी. क्षेत्र के लोगों का कहना है कि शार्ट सर्किट से आग लगने से हादसा हुआ. पुलिस मामले की जांच में जुटी है.

शहरवासियों ने बुधवार को दीपावली को त्योहार हर्षोल्लास से मनाया. बाजार में दिनभर खरीदारों की भीड़ रही. शाम को लोगों ने घरों व अपने प्रतिष्ठानों पर आकर्षक रोशनी की तथा शुभ मुहूर्त में पूजा कर आतिशबाजी की. शहर का भीतरी मार्केट भी आकर्षक रोशनी से सजा हुआ नजर आया. अधिकतर व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान में ही पूजा की. लेकिन, देर रात हुए आगजनी के एक हादसे ने दीपावली का मजा किरकिरा कर दिया. रात करीब दो बजकर 31 मिनट पर गादिया मार्केट में रहने वाला चोटिला निवासी प्रकाशसिंह पीने का पानी लेने बाजार से गादिया मार्केट पहुंचा तो उसे एक बिल्डिंग से धुंआ उठता दिखा. इस पर उसने बिल्डिंग पर लिखे नम्बर पर फोन कर सूचना दी. करीब तीन बजे तक नगर परिषद की फायर बिग्रेड मौके पर पहुंची लेकिन संकरी गली होने के कारण जहां आग लगी थी वहां तक फायर बिग्रेड पहुंच नहीं पाई. इसके चलते अतिरिक्त पाइप जोडक़र बिल्डिंग तक ले जाया गया. तीन बजे से साढ़े सात बजे तक फायर बिग्रेड के तीस से अधिक कार्मिकों ने स्थानीय व्यापारियों के सहयोग से आग पर काफी हद तक काबू पाया. उसके बाद आग में जले सामान को बाहर निकालने में जुट गए.
आग से करोड़ों का नुकसानः गादिया मार्केट के तीन मंजिला भवन में एक तरफ तीन मंजिला शोरूम (सात-सात दुकानें प्रति फ्लोर) है और दूसरी तरफ छह-छह दुकानें प्रति फ्लोर है. आगजनी से तीन मंजिला शोरूम पूरी तरह जल गया तथा दूसरी तरफ बनी छह दुकानें भी जल गई. हादसे में व्यापारियों का करोड़ों को नुकसान हुआ. गादिया मार्केट चिरंजीलाल गादिया व पिन्टूभाई गादिया का है. जिन्होंने मुकेश शर्मा (राधा गोविंद साड़ी) को किराए पर दे रखा है. बिल्डिंग के एक हिस्से की तीन दुकानें जितेन्द्र बंबोली ने ले रखी है. बुधवार देर रात्रि को लगी आग से व्यापारियों का करोड़ों रुपए की साडिय़ा, ड्रेसेज, रेशम व मोलियों की मालाएं, साफा, शेरवानी, सजावटी सामान स्वाहा हो गया. अपनी आंखों के सामाने अपना सब कुछ जलते देख एक व्यापारी की आंखोंं से आंसू छलक गए. जिन्हें अन्य व्यापारियों ने संभाला. बताया जा रहा है कि शहर के भीतरी बाजार में अब तक की यह सबसे बड़ी आग है. जिससे करोड़ों का सामान स्वाह हो गया. आग पर काबू पाने के लिए 30 दमकलकर्मी सहित दस दमकलें व कई पानी के ट्रेक्टर लगे रहे. सभापति महेन्द्र बोहरा ने बताया कि स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जोधपुर, सोजत, तखतगढ़, सुमेरपुर व सादड़ी से भी दमकलें मंगवाई गई.

बिल्डिंग पर पांच मोबाइल टॉवर, आशंका से पुलिस ने लोगों को हटायाः जिस भवन में आग लगी उस पर पांच मोबाइल टॉवर लगे हुए है. आग की स्थिति को देखते हुए एक टॉवर के नीचे गिरने की आशंका के चलते पुलिसकर्मियों ने मौके से भी लोगों को हटाया. गनीमत रही कि समय रहते आग पर काबू पा लिया गया वरना टॉवर गिर भी सकता था. आग की सूचना मिलने पर सभापति महेन्द्र बोहरा, एडीएम भागीरथ विश्नोई, एसडीएम महावीरसिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ज्योतिस्वरूप शर्मा, शहर वृत्ताधिकारी छुगसिंह सोढ़ा, कोतवाल गंगाराम खावा, औद्योगिक थानाप्रभारी निरंजन प्रताप, राकेश मेहता, पार्षद विकास बुबकिया, पुलिस व आरएससी जवान सहित कई व्यापारी व अधिकारी उपस्थित रहे. बाजार के बीच बनी इतनी बड़ी बिल्डिंग में आगजनी से निपटने के लिए आग बुझाने का सयंत्र तक नहीं लगा था. आग को काबू पाने के लिए दमकलकर्मियों ने धानमंडी के उपासरे, सर्राफा बाजार व कपड़ा मार्केट से आग बुझाने में जुटे रहे. आग इतनी विकराल थी कि शोरूम में लगे लकड़ी से बने सभी दरवाजे व कई खिड़कियां जल गई.

खिड़कियों के आगे दो-तीन जगह लोहे की जालियां लगी हुई थी. जिसे दमकलकर्मियों ने तोड़ा. शहर के भीतरी बाजार की गलियां संकरी होने के कारण दमकल वाहन को मौके पर पहुंचे में परेशानी हुई. शोरूम जिस गली में था वह इतनी संकरी थी कि वहां तक छोटी दमकल तक नहीं पहुंच पा रही थी. ऐसे में दमकल वाहन में पाइप में अन्य पाइप जोडक़र मौके पर पाइप पहुंचाया गया. दमकलकर्मियों ने भवन की खिड़कियां तोडक़र अंदर लगी आग को बुझाया.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*