Monday , 21 January 2019
भारत 2019 में 32 अंतरिक्ष अभियान लॉन्‍च करने की बना रहा है योजना: इसरो

भारत 2019 में 32 अंतरिक्ष अभियान लॉन्‍च करने की बना रहा है योजना: इसरो

बेंगलुरु.भारत इस साल 32 अंतरिक्ष अभियान लॉन्‍च करने की योजना बना रहा है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष सिवन के. ने नए साल पर अपने सहकर्मियों को दिए संदेश में यह जानकारी दी. उन्‍होंने कहा, वर्ष 2019 में 32 नियोजित अभियानों के साथ इसरो अपने समुदाय के लिए चुनौतीपूर्ण वादा करता है. अभियानों में चंद्रमा पर कदम रखने के मकसद से भेजा जाने वाला चंद्रयान-2 भी शामिल है. चंद्र अभियान चेन्‍नै से करीब 90 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लॉन्‍च पैड से लॉन्‍च किया जाने वाला 25वां अभियान होगा. इसकी लागत 800 करोड़ रुपये है. सिवन ने अपने संदेश में कहा कि भारत द्वारा 2021-22 में अंतरिक्ष में मानव भेजने के पहले गगनयान पर भी काम इसी साल शुरू होगा.
अंतरिक्ष एजेंसी के किसी शीर्ष अधिकारी द्वारा अपने अधीनस्थों को नए साल के अवसर पर दिया जाने वाला यह अपनी तरह का पहला संदेश है. बता दें कि इसरो ने इस बात की पुष्टि की है कि वह आगामी 3 जनवरी को चंद्रयान-2 को लॉन्‍च नहीं करने जा रहा है. इसरो का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब चीन का अंतरिक्षयान ‘चांगी 4’ चंद्रमा की कक्षा में पहुंच गया है. चांगी 4 यान अब चंद्रमा के उस हिस्‍से में लैंड करेगा जिसकी अभी तक कोई पड़ताल नहीं हुई है. इसरो इस यान को जल्‍द से जल्‍द लॉन्‍च करना चाहता है लेकिन अब तक उसने प्रक्षेपण की डेट फाइनल नहीं की है.
इसरो के चेयरमैन सिवन ने पिछले दिनों बताया था कि वे लोग वर्ष 2018 के अंतिम कुछ महीनों में कई लॉन्‍च करने में व्‍यस्‍त थे. इससे चंद्रमा पर भेजा जाने वाला मिशन प्रभावित हुआ. उन्‍होंने कहा, इस समय मैं डेट को लेकर कोई टिप्‍पणी नहीं कर सकता हूं. हम इस पर अगले 10 से 12 दिन में कोई फैसला लेने में सक्षम हो पाएंगे. चांगी 4 और चंद्रयान-2 दोनों ही ‘सबसे पहले’ चंद्रमा की धरती पर उतरना चाहते थे. अब चीनी यान सबसे पहले चंद्रमा के पृथ्‍वी से दूर वाले हिस्‍से में उतरेगा वहीं चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा. चांद के इस हिस्‍से के बारे में अभी तक कोई पुख्‍ता जानकारी नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*