Tuesday , 23 April 2019
हंगामेदार होगा विधानसभा सत्र, गुर्जर आरक्षण पर घिर सकती है सरकार

हंगामेदार होगा विधानसभा सत्र, गुर्जर आरक्षण पर घिर सकती है सरकार

जयपुर, 11 फरवरी (उदयपुर किरण). 15 वीं विधानसभा के पहले सत्र के दूसरे चरण का आगाज सोमवार से होगा. सरकार 13 फरवरी को लेखानुदान मांग पेश करेंगी. सोमवार को विपक्ष गुर्जर आरक्षण सहित किसान कर्जमाफी, स्वाइन फ्लू, बेराजगारी भत्ता पर सरकार को घेर सकता है. इसके लिए विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी ने रणनीति तैयार कर ली है. वहीं सरकार गुर्जर आरक्षण को लेकर आरक्षण से जुड़ा संशोधित बिल विधानसभा में पारित कराने के लिए रख सकती है. चुनावी साल होने के कारण जहां विपक्षी पार्टी भाजपा पूरी तरह आक्रामक है तो कांग्रेस भी इस बार लेखानुदान मांगों में हर वर्ग के लिए कुछ न कुछ नया कर सकती है.

सरकार कोई बड़ी घोषणा नहीं करेंगी लेकिन बजट के अंदर गहलोत अपनी जादूगरी दिखा सकते हैं. इसमें महिलाओं, युवाओं सहित सरकारी नौकरियों में भर्तियों का पिटारा सरकार खोल सकती है. कयास लगाए जा रहे है कि विपक्ष को करारा जवाब देने के लिए गुर्जर आरक्षण को लेकर सरकार विधानसभा में विधेयक ला सकती हैं. यह विधेयक आरक्षण से जुड़ा संशोधित बिल होगा. अब बिल से जुड़ा नया संकल्प पत्र सामने आ सकता है. इसे विधानसभा से पारित कराकर केन्द्र को भेजा जाएगा. गहलोत सरकार इसके जरिए गेंद अब केन्द्र के पाले में डालना चाहती है.

इस समस्या का हल बिना केन्द्र सरकार के सहयोग के संभव भी नहीं दिख रहा है. सरकार के मंत्रियों को टॉस्क: विधानसभा में इस बार संसदीय मंत्री शांति धारीवाल, जलदाय मंत्री बी डी कल्ला, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटसरा, महिला बाल विकास मंत्री ममता भूपेश, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, मुख्य सचेतक महेश जोशी पूरी तरह मोर्चा संभाले होंगे. विपक्ष में इन पर जिम्मा: इस बार विपक्ष में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, पूर्व चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी प्रमुखता से मोर्चा संभाल होंगे.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*