Friday , 10 April 2020

अजीत डोभाल ने दिल्‍ली के हिंसाग्रस्त क्षेत्रों का लिया जायजा, गृहमंत्री को दी हालात की जानकारी

नई दिल्‍ली:नेशनल सिक्‍युरिटी एडवाइजर (NSA) अजीत डोभाल दिल्‍ली में भड़की हिंसा के बाद सुरक्षा का जायजा लेने के लिए मौजपुर और जाफराबाद पहुंचे हैं. इस मौके पर रिपोर्टरों की टीम से बात करते हुए कहा कि स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है. लोग संतुष्ट हैं. मुझे सुरक्षा एजेंसियों पर भरोसा है. पुलिस अपना काम कर रही है. ताजा अपडेट के अनुसार अजीत डोभाल ने हिंसाग्रस्‍त इलाकों का दौरा करने के बाद गृहमंत्री अमित शाह से मिलने गए.
डोभाल गृहमंत्रालय में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर थोड़ी देर निकल गए. उनके साथ सेक्रेटरी अजय कुमार भल्‍ला और दिल्‍ली पुलिस के कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक भी मौजूद थे.इससे पहले भी उन्होंने मंगलवार की रात को सीलमपुर का दौरा किया था. उनके साथ पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक भी थे.
हिंसाग्रस्त इलाके में लोगों से मिलने के बाद एनएसए अजीत डोभाल ने कहा कि लोगों में एकता की भावना है और आपस में कोई दुश्मनी नहीं है. कुछ अपराधी इस तरह की बातें करते हैं और हिंसा फैलाते हैं. लोग उन्हें अलग करने की कोशिश कर रहे हैं. पुलिस यहां अपना काम कर रही है. हम गृह मंत्रालय और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेशों के अनुसार यहां आए हैं. इंशाअल्लाह यहां पर बिल्कुल अमन रहेगा.
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मेरा संदेश यह है कि हर कोई जो अपने देश से प्यार करता है. अपने समाज, अपने पड़ोसी से भी प्यार करता है. हर किसी को दूसरों के साथ प्रेम और सद्भाव के साथ रहना चाहिए. लोगों को एक-दूसरे की समस्याओं को सुलझाने की कोशिश करनी चाहिए न कि उन्हें बढ़ाना चाहिए.
बता दें कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल पुलिस आयुक्त (सीपी) अमूल्य पटनायक के साथ रात 11 बजे हिंसाग्रस्त क्षेत्र में पहुंचे. यहां पुलिस अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा करने के बाद जाफराबाद, कर्दमपुरी, कबीरनगर, भजनपुरा और चांदबाग सहित अन्य क्षेत्रों का दौरा किया. करीब डेढ़ बजे वह वापस चले गए थे.
इधर पुलिस ने पुलिस ने हिंसा को लेकर 11 मुकदमे दर्ज किए हैं. इनमें हिंसा करने, सार्वजनिक व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, पुलिस पर हमला, हत्या, हत्या के प्रयास की धाराएं लगाई गई हैं. पुलिस ने 25 उपद्रवियों को हिरासत में लिया है.
बता दें कि पुलिस लगातार लोगों से कानून हाथ में नहीं लेने की अपील कर रही है. हर स्‍तर पर सुरक्षा का जायजा लिया जा रहा है. फ्लैग मार्च से लेकर शांति समिति की बैठकें हो रही हैं. देर रात पुलिस की तरफ से यह भी बताया गया कि दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया गया है. इसके बाद से पुलिस लगातार लोगों से बात कर उन्‍हें शांति बरतने की अपील कर रही है.