Saturday , 27 November 2021
अनिश्चितकालीन आन्दोलन की ओर अग्रसर सिंचाई विभाग के जूनियर इंजीनियर्स

अनिश्चितकालीन आन्दोलन की ओर अग्रसर सिंचाई विभाग के जूनियर इंजीनियर्स

लखनऊ. प्रमुख अभियंता के समयवद्ध निर्णय के आश्वासन के बाद भी कार्यवाही न किये जाने के कारण डिप्लोमा अभियंताओं में भारी आक्रोश व्याप्त है. जूनियर इंजीनियरों की कई समस्याओं के प्रति विभाग की उदासीनता व उपेक्षापूर्ण व्यवहार में धरना/प्रदर्षन/ध्यानाकर्शण का कार्यक्रम मुख्यालय पर लगातार जारी है. आज के कार्यक्रम की अध्यक्षता सिविल डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के प्रान्तीय अध्यक्ष इं. सुधीर पंवार ने की तथा संचालन महासचिव इं नितेन्द्र श्रीवास्तव ने किया. इस कार्यक्रम में संरक्षक इं.एस. पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सलाहकार इं. ओ. पी. राय, विद्युत एवं याॅत्रिक डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के महासचिव इं0 गजेन्द्र कुमार तथा प्रदेष के जनपदीय/मण्डलीय एवं प्रान्तीय पदाधिकारियों के साथ-साथ भारी संख्या में सदस्यों द्वारा सहभागिता कर प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष का ध्यानाकर्षण किया गया.
प्रदेश अध्यक्ष इं. सुधीर पवार ने अपने सम्बोधन मे कहा कि विभागाध्यक्ष मांगों की अनदेखी कर हमें बड़े आन्दोलन को मजबूर कर रहे है. उन्होंने कहा कि सहायक अभियंताओं की ज्येश्ठता सूची को अनावष्यक रूप से लटकाने, वर्शों से लम्बित ए0 सी0 पी0 के प्रकरणों का निस्तारण न किये जाने, अधीक्षण अभियंता के अनुबन्ध की षर्तों का पालन कराये जाने के बावजूद बिना दोश के जूनियर इंजीनियर्स व सहायक अभियंताओं को आरोप पत्र दिये जाने, सेवा सम्बन्धी षासनादेषों की पालना न किये जाने आदि विशयों पर दिनांक 10-09-2019 तक निर्णय किये जाने के प्रमुख अभियंता द्वारा दिये गये आष्वासन के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं किये जाने से सिंचाई विभाग के डिप्लोमा अभियंताओं में भारी रोश व्याप्त है. वर्तमान में 5 दिनों से लगातार धरनारत् अभियंताओं से कोई वार्ता न करते हुए प्रमुख अभियंता द्वारा नकारात्मक कार्यप्रणाली के तहत् सभी विन्दुओं को लम्बित बनाये रखा जा रहा है तथा विभाग में स्वीकृत पदों के सापेक्ष कार्यरत अत्यधिक कम जूनियर इंजीनियर्स को भी संघर्श कार्यक्रम हेतु विवष किया जा रहा है. जांच अनुभाग में जांच आख्या आने के उपरान्त भी प्रकरणों को चिन्हित कर की जा रही कार्यवाही पर विराम लगाने, प्रारम्भिक जांच अनुभाग में षिकायतों की जांच कार्मिक विभाग के षासनादेष के प्रावधान के अनुरूप सुनिष्चित किये जाने व विभिन्न मामलों में वांछित जाँच की स्थिति के मामलों आदि का तत्काल निस्तारण किये जाने हेतु ध्यानाकर्शण किया गया. इस अवसर पर सहायक अभियंताओं की वरिश्ठता सूची मेें नियम विरूद्ध ढंग से विभागीय वर्तमान एवं पूर्व अधिकारियों के दबाव में पक्षपातपूर्ण ढंग से किसी भी छेड़छाड़ के विरूद्ध अनिश्चित कालीन संघर्श प्रारम्भ करने की घोशणा की गयी.