Saturday , 15 August 2020

एटीएम मशीन हेक कर और एटीएम से रकम नहीं निकलने की शिकायत कर लाखों का रिफंड प्राप्त करने वाला गैंग पुलिस की गिरफ्त में

चित्तौड़गढ़ . जिले की कोतवाली थाना पुलिस ने एटीएम मशीन हेक कर और एटीएम से रकम नहीं निकलने की शिकायत कर लाखों का रिफंड प्राप्त करने वाले अंतराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश कर एक महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया. पुलिस ने आरोपियों से 64 एटीएम कार्ड व वारदात में प्रयुक्त किए गए मोबाइल बरामद  किये है. साथ ही आरोपियों व उनके परिचितों के खातों में जमा कराई गई 36 लाख की रकम फ्रिज करवा दी है.

एसपी दीपक भार्गव ने बताया कि हीरापुर थाना कालपी जिला जालौन निवासी मनमोहन व हरीशचन्द्र केवट दोनों सगे भाई हैं,तथा मेनका केवट उनकी परिचित है. 20 फरवरी, 2020 को एसबीआई बैंक के एटीएम संचालित करने वाली टीएसआई कम्पनी के सुपरवाइजर नरेन्द्र सिंह ने कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी. जिसमें उन्होंने बताया कि एसबीआई के विभिन्‍न एटीएम मशीनों से अज्ञात व्यक्तियों द्वारा 4,68,400 रूपये निकाले गए है.

एसपी दीपक भार्गव ने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर एएसपी सरिता सिंह व सीओ अमित सिंह के सुपरविजन तथा कोतवाली थानाधिकारी तुलसी राम के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया. टीम द्वारा मामले की गहनता से जांच की गई, सीसीटीवी फुटेज व तकनीकी साक्ष्य से वारदात में दो भाई मनमोहन व हरीश चन्द्र व महिला मेनका संलिप्त पाये गए. इसके बाद पुलिस ने इन्हें लखनऊ व उदयपुर से गिरफ्तार कर लिया. पुलिस पूछताछ में  आरोपियों ने बताया कि पिछले करीब एक साल में उन्होंने चित्तौड़गढ़, उदयपुर, जयपुर, भीलवाड़ा, अजमेर, कानपुर, ओरई, लखनऊ में कई बैंकों की एटीएम मशीन को हेक कर रूपये निकाले हैं. साथ ही बैंक एटीएम से रुपये नहीं निकलने की शिकायत कर लाखों का रिफंड प्राप्त करना भी कबूल किया. शातिर बदमाशों ने बताया कि परिचितों के एटीएम कार्ड लेकर एटीएम मशीन से रूपये निकालने के दौरान मशीन को हेक कर रकम निकाल लेते है. बाद में बैंक को एटीएम से रुपये नहीं निकलने की शिकायत कर दोबारा रिफण्ड प्राप्त कर लेते है.