Monday , 27 January 2020
कैप्टन पहले केबल माफिया को कुचलते तो न होता गुरबाणी का निरादर: AAP

कैप्टन पहले केबल माफिया को कुचलते तो न होता गुरबाणी का निरादर: AAP

चंडीगढ़.आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने बादल परिवार की मलकीयत वाले टी.वी. चैनल द्वारा श्री दरबार साहिब के हुक्मनामे और गुरबाणी कीर्तन के प्रचार और प्रसारण पर अपना मालिकाना हक जताने को गुरु और गुरु की बाणी का घोर निरादर करार दिया है. ‘आप’ नेताओं ने कहा कि यदि चुनावी वायदे के मुताबिक मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह सत्ता संभालते ही बादल राज में पैदा हुए केबल माफिया को कुचल देते तो एक निजी कंपनी या कोई व्यक्ति विशेष श्री दरबार साहिब के पवित्र हुक्मनामे और गुरबाणी-कीर्तन पर अपना मालिकाना हक जताने की हिमाकत न करता. ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता विधायक प्रो. बलजिंदर कौर, सरबजीत कौर माणूंके, विधायक रूपदिंर कौर रूबी, जय किशन सिंह रोड़ी, मनजीत सिंह बिलासपुर और कुलवंत सिंह पंडोरी ने सांझा बयान में कहा कि पंथ और पंजाब के साथ आज जो बेइंसाफी हो रही है, उसके लिए सिर्फ बादल परिवार या उनके पंथ विरोधी, पंजाब विरोधी और लोक विरोधी ‘गुर्गे’ ही जिम्मेदार नहीं, बल्कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह भी बराबर के गुनाहगार हैं, क्योंकि कैप्टन अमरेंद्र सिंह को बादलों के 10 वर्षीय माफिया राज से सताए पंजाब के लोगों ने बहुत बड़ी उम्मीद के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठाया था. परंतु सत्ता मिलते ही मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने बादलों के माफिया में अपनी हिस्सेदारी डाल ली. आम आदमी पार्टी के विधायकों ने कहा कि मुख्यमंत्री चाहते तो बादलों के पैदा किए केबल माफिया, रेत माफिया, ट्रांसपोर्ट माफिया, ड्रग माफिया, बिजली माफिया, शिक्षा माफिया, सेहत माफिया और लैंड माफिया आदि का घंटों में सफाया करके पंजाब, पंजाबियों और पंथ के हित बचा सकते थे.