Monday , 25 June 2018

खमनोर बीडीओ को मिली महिला सरपंचों से अभद्र भाषा में बात करने की ‘सजा’

एपीओ होते ही ठंडा पड़ गया बीडीओ का ‘साहब’ वाला रौब

उदयपुर किरण. राजसमंद. जिले की खमनोर पंचायत समिति में कार्यरत बीडीओ केदारप्रसाद वैष्णव को गुरुवार को राज्य सरकार ने एपीओ कर दिया. बीडीओ पर जनप्रतिनिधियों, विशेषकर महिला सरपंचों से अभद्र भाषा में बात करने के आरोप थे. चर्चा है कि बीडीओ को महिला सरपंचों से अपशब्दों में बात करने की ‘सजा’ मिली. एपीओ होते ही बीडीओ का अफसर वाला रौब भी ठंडा पड़ गया. सूत्रों के अनुसार बीडीओ आदेश की पालना में देर शाम जयपुर रवाना हो गया.

केदारप्रसाद वैष्णव ने 62 दिन पहले ही खमनोर में बीडीओ का चार्ज संभाला था. एपीओ होने के पीछे क्षेत्र के सरपंचों, विशेषत: महिला सरपंचों से अभद्र भाषा में बात करने के सरपंच संघ की उपशाखा ने आरोपों को महत्वपूर्ण माना जा रहा है. सरपंच संघ की खमनोर उपशाखा ने 2 और 9 जून को खमनोर के आसपास दो बार गोपनीय बैठकें की. बैठकों में सरपंचों ने बीडीओ के खिलाफ काफी आक्रोश जताते हुए तत्काल हटाने का प्रस्ताव लिया. सूत्रों के अनुसार सरपंच संघ के आधे से ज्यादा सरपंचों ने जयपुर में एक मंत्री के यहां धरना दे दिया और बीडीओ को हटाने के आदेशों तक वहीं रुकने पर अड़ गए, लेकिन मंत्री ने पक्का आश्वासन देकर सरपंचों को भेज दिया. पंचायतीराज विभाग से गुरुवार को बीडीओ के एपीओ आदेश जारी होते ही सरपंच संघ में हलचल मच गई. दूसरी तरफ ‘कड़क’ अंदाज में बात करने वाले बीडीओ का रौब ठंडा पड़ गया. ज्वाइन करने के दिन से ही बीडीओ द्वारा अधीनस्थ कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों से कड़क लहजे में बात करने और अभद्र भाषा बोलने की चर्चाएं चल रही थी. बीडीओ को एपीओ (आदेशों की प्रतीक्षा में) कर मुख्यालय पंचायतीराज विभाग कार्यालय जयपुर करने का आदेश जारी होते ही खबर जिलेभर में आग की तरह दौड़ गई. सरपंचों की सुनवाई कर बीडीओ को एपीओ कराने में मंत्री किरण माहेश्वरी की भूमिका की चर्चा हो रही है. उल्लेखनीय है कि केदारप्रसाद वैष्णव मूलतः पशुपालन विभाग में है, जिसको बीडीओ बनाकर भेजा था. वैष्णव ने 13 अप्रेल को ही खमनोर बीडीओ का चार्ज लिया था.

The post खमनोर बीडीओ को मिली महिला सरपंचों से अभद्र भाषा में बात करने की ‘सजा’ appeared first on Udaipur Kiran

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*