Friday , 13 December 2019
छठमय हुई राजधानी पटना, हर तरफ गूंज रहे छठ गीत

छठमय हुई राजधानी पटना, हर तरफ गूंज रहे छठ गीत

पटना.लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर राजधानी पटना भक्तिमय हो गई है. छठ को लेकर राजधानी पटना समेत के घर-घर में छठ के गीत गूंज रहे हैं. ‘‘केलवा जे फरेला घवद से, ओह पर सुगा मेड़राय, आदित लिहो मोर अरगिया., दरस देखाव ए दीनानाथ., उगी है सुरुजदेव., हे छठी मइया तोहर महिमा अपार., कांच ही बास के बहंगिया बहंगी लचकत जाय ….. , गीत सुनने को मिल रहे हैं. राजधानी पटना के लोग शनिवार को अस्ताचल सूर्य को अर्घ्य देंगे जिसके लिए जहां साफ-सफाई से लेकर सुरक्षा और अन्य तैयारियां पूरी कर ली गई है वहीं छठ व्रतियों में उत्साह और रौनक देखते ही बन रही है. छठ की छटा आज पूरी राजधानी में छाई हुई है. घर से लेकर घाट तक, गलियों से लेकर सड़कों तक…हर तरफ आकर्षक सजावट दिख रही है. पुलिस प्रशासन भी अलर्ट है.
पटना में गंगा घाटों पर छठ पूजा करने के लिए जिला प्रशासन की तरफ से कई सुविधाएं मुहैया करवाई गई हैं. सूर्योपासना के इस महापर्व को लेकर हर तरफ स्वच्छता और शुचिता का ध्यान रखा जा रहा है. छठ महापर्व पर शनिवार दोपहर 12 बजे से शहर की यातायात व्यवस्था बदली रहेगी. तीन नवंबर की सुबह आठ बजे तक शहर में छोटे-बड़े मालवाहक वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी गई है. वहीं, गांधी सेतु पर वाहनों का परिचालन पहले की तरह जारी रहेगा. न्यू बाईपास, करमलीचक मोड़ से पटना सिटी की ओर जाने वाले सभी प्रकार के वाहनों के प्रवेश पर रोक रहेगी. कारगिल चौक से दीदारगंज के बीच कोई वाहन नहीं चलेंगे. घाटों के नजदीक बनी पार्किंग से व्रती पैदल जाएंगे.
छठ पूजा से पहले जिला प्रशासन ने लोगों को जानकारियां देने के लिए छठ पूजा पटना नाम से ऐप लॉन्च किया है. इस ऐप के जरिए लोग छठ पूजा से संबंधित सारी जानकारियां लोग ले सकेंगे. इस ऐप के जरिए घाट में पार्किंग की जगह और वहां पहुचने के लिए नेविगेशन की सुविधा भी है. घाट के नजदीक की सुविधाएं जैसे थाना, एटीएम ,बैंक, रेस्टोरेन्ट, फार्मेसी, अस्पताल, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड की जानकारी साथ ही उस तक पहुंचने के लिए नेविगेशन की सुविधा की जानकारी दी गई है. वहीं शहर की अलग अलग जगहों पर पहुंचने के लिए संबंधित बस रूट की जानकारी दी गई है. पटना जिलाधिकारी कुमार रवि ने बताया कि सिविल सर्जन, पटना के द्वारा छठ घाटों पर 92 मेडिकल टीम कार्यरत रहेगी जिसमें चिकित्सक, चिकित्साकर्मी जीवन रक्षक दवाओं के साथ प्रतिनियुक्त रहेंगे. उन्होंने कहा कि पीएमसीएच को अलर्ट पर रखा जाएगा. पीएमसीएच, एनएमसीएच एवं आईजीआईएमएस में एक्सक्लूसिव बेड भी रखा जाएगा.