Friday , 10 April 2020

ड्रीम डेब्यू के बाद खुद को ऑलराउंडर बनाना चाहते हैं काइल जैमीसन

क्राइस्टचर्च:तेज गेंदबाजी करने से पहले शुरुआती दिनों में विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर खेलने वाले न्यूजीलैंड के काइल जैमीसन आने वाले दिनों में खुद को अदद ऑलराउंडर के तौर पर स्थापित करना चाहते हैं. जैमीसन (25 वर्ष) ने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में ड्रीम डेब्यू किया. वह शुरुआती दिनों में बतौर बल्लेबाज के तौर पर खेलते थे, लेकिन न्यूजीलैंड के अंडर-19 कोच डेल हेडली से मिलने के बाद सबकुछ बदल गया क्योंकि उनसे गंभीरता से तेज गेंदबाजी पर ध्यान लगाने को कहा गया.
आईसीसी की अधिकारिक वेबसाइट ने जैमीसन के हवाले से कहा, ”मैं हाई स्कूल तक काफी अच्छा बल्लेबाज था और फिर मैंने न्यूजीलैंड की अंडर-19 टीम में जगह बना ली और फिर डेल हेडली ने मुझे ध्यान गेंदबाज बनने की ओर केंद्रित करने को कहा.”उन्होंने कहा, ”मैं हमेशा बल्लेबाजी पसंद करता था और मैं बल्लेबाजी की प्रशंसा करते हुए ही बड़ा हुआ था. मैं गेंदबाजी करता था लेकिन मैंने इसे करियर विकल्प के रूप में कभी नहीं सोचा था. अब मैं एक गेंदबाज हूं जो बल्लेबाजी कर सकता है. अब मैं एक ऑलराउंडर बनना चाहता हूं.”
छह फुट आठ इंच लंबे इस तेज गेंदबाज को भारत के खिलाफ वेलिंग्टन टेस्ट की पहली पारी में चार विकेट मिले और उन्होंने महज 45 गेंद में 44 रन बनाये. उन्हें भारतीय कप्तान विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा जैसे बल्लेबाजों के बड़े विकेट मिले. उन्हें हालांकि लगता है कि अब भी उनकी रफ्तार में सुधार की गुंजाइश है.
उन्होंने कहा, ”हां, निश्चित रूप से सुधार की जरूरत है और मुझे लगता है कि अगले साल तक मैं इसमें काफी सुधार कर लूंगा.” नील वैगनर के टीम में वापसी की उम्मीद है, क्योंकि वह बच्चे के जन्म के कारण पहला टेस्ट नहीं खेल पाए थे. इसलिए जैमीसन के दूसरा मैच खेलने की संभावना नहीं है जो शनिवार से क्राइस्टचर्च के हेगले ओवल में शुरू होगा.