Wednesday , 3 June 2020

प्रवासी श्रमिकों को कोरोना जाँच के बाद जॉब कार्ड बनाकर मनरेगा में रोजगार देगी सरकार

जोधपुर. कोरोना संकट के कारण प्रवासी मजदूरों को काफी मुसीबतों का सामना करना पद रहा है. ऐसे में राजस्थान सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है कि प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचने में किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करना पड़े. इसके साथ ही सरकार प्रवासी मजदूरों के लिए एक और महत्त्वपूर्ण योजना बना रही है, जिसके तहत पहले श्रमिकों की कोरोना जांच करवाई जाएगी फिर उनका जॉब कार्ड बनाकर उनको मनरेगा के तहत रोजगार देगी.

जोधपुर जिला प्रभारी नवीन महाजन गुरुवार को जोधपुर के पुराने शहर का दौरा करते हुए कोरोना के बड़े हॉटस्पॉट इलाकों में व्यवस्थाओं का मुआयना किया. उन्होंने कहा कि शहर में राज्य के अन्य सभी जिलों से सबसे ज्यादा कोरोना टेस्ट किए गए हैं इसी कारण इतने पॉजिटिव केस सामने आए हैं लेकिन मरीज ठीक भी जल्द हो रहे हैं और अब एक्टिव केस भी यहां मात्र 215 के आस-पास बचे हैं. उन्होंने बताया कि जोधपुर संभाग में लगभग 7,000 से अधिक प्रवासी श्रमिकों की 7 दिनों में कोरोना जांच करने का लक्ष्य रखा गया है, साथ ही उनके जॉब कार्ड बनवाने का काम भी शुरू कर रहे हैं.