Sunday , 23 February 2020
बद्रीनाथ व गौरीकुंड राजमार्ग खुला, धनोल्टी में 250 पर्यटक कैद

बद्रीनाथ व गौरीकुंड राजमार्ग खुला, धनोल्टी में 250 पर्यटक कैद

देहरादून.राजधानी देहरादून में शुक्रवार को चटख धूप खिली. लेकिन ठंडी हवाओं ने गलन का अहसास कराया. वहीं धनोल्टी में मार्ग बंद होने के कारण पर्यटक अभी भी होटलों में कैद हैं. उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग में 400 से अधिक गांव अभी भी बर्फ में कैद हैं. दर्जनों सड़कें बर्फ से ढकी हैं, बिजली और पानी की सप्लाई ठप पड़ी है. मसूरी में बर्फबारी के बाद पाला पड़ने से फिसलन बढ़ गई है, जिससे लोगों को आवाजाही में परेशानी हो रही है. वहीं मसूरी से दो किमी नीचे पेट्रोल पंप तक ही वाहन आ रहे हैं. उसके ऊपर का रास्ता बर्फबारी के बाद बढ़ी फिसलन के कारण बंद कर दिया गया है.
मसूरी में फंसे 600 पर्यटकों को कल रात निकाल लिया गया. चंबा-धनोल्टी सड़क मार्ग बर्फ के कारण अभी भी बंद है. जिस कारण अभी भी धनोल्टी और आसपास के इलाकों में भी करीब 250 पर्यटक होटलों में कैद हैं.
रास्ता बंद होने की वजह से उन्हें बाहर नहीं निकाला जा सका. वाहनों का संचालन न होने के कारण लोग अभी चंबा-धनोल्टी मार्ग पर आवागमन नहीं कर पा रहे हैं. शाम तक रास्ता खुलने की उम्मीद है. नई टिहरी, रुद्रप्रयाग, यमुनोत्री घाटी, चमोली में चटक धूप खिली हुई. रुद्रप्रयाग जनपद में बर्फबारी प्रभावित गांवों में जनजीवन अस्त-व्यस्त है. बद्रीनाथ एवं गौरीकुंड राजमार्ग खुले हैं. कुंड-ऊखीमठ-चोपता-गोपेश्वर राजमार्ग बर्फ के कारण बंद हैं. यमुनोत्री हाईवे अभी भी बाधित है. चमोली जिले में ठंड से राहत मिली है. जिससे बर्फ से बंद सड़कों के खोलने में तेजी आएगी.