Sunday , 28 November 2021
भारत विश्व का सिरमौर बने यह हर भारतीय चाहता है – मनोज तिवारी

भारत विश्व का सिरमौर बने यह हर भारतीय चाहता है – मनोज तिवारी

नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी आज व्यापक जनसंपर्क एवं जन जागरण अभियान के अन्तर्गत झिल-मिल कॉलोनी नजदीक विवेक विहार पुलिस स्टेशन पर इण्डियन बॉडी बिल्डर फेडरेशन से स्वर्ण पदक विजेता मोहित शर्मा से मिले . इस मुलाकात का मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में कश्मीर से सम्बन्धित अनुच्छेद 370 एवं 35ए की समाप्ति से आम जनता को होने वाले लाभ को जन जागरण के माध्यम से जनता के बीच ले जाना है.

मोहित शर्मा से मिलने के बाद दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि कश्मीर से सम्बन्धित अनुच्छेद 370 व 35 ए के कश्मीर से समाप्त होने के साथ ही दुनिया को यह संदेश गया है कि वर्तमान का भारत नया भारत है जो देशहित के लिए कड़े व सख्त निर्णय भी लेता है और दुश्मन को उसी की भाषा में जवाब देना भी जानता है. वसूधैव कूटूम्बकम् की राह पर चलने वाला भारत अब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विश्व गुरू बनने की ओर अग्रसर है. हमारे पास विश्व का प्रतिनिधित्व करने वाला नेतृत्व है और इस बात का लाभ उठाते हुये हमें भी देश निर्माण में अपनी अपनी भागीदारी देनी चाहिए.

भारत विश्व का सिरमौर बने यह भारतीय चाहता है इसलिए हर भारतीय अपना अपार जनसमर्थन व प्यार मोदी सरकार को दे रहा है. व्यापक जनसम्पर्क एवं जन जागरण के माध्यम से हम उन लोगों से मुलाकात कर रहे है जिन्हें लोग अपना आदर्श मानते है और जिन्होनें प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष तौर पर देश निर्माण में अपनी सम्पूर्ण भागीदारी देते हुये देश का सम्मान बढ़ाया है. ये लोग हमारे साथ मिलकर अनुच्छेद 370 की समाप्ति से होने वाले लाभ को जनव्यापी जनजागरण के माध्यम से लोगों के बीच लेकर जायेगें.

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है कि उसके लिए भारत की सरकार जागरूक है, यह संदेश हमारे पड़ोसी देशों तक जायेगा और अब पाक अधिकृत कश्मीर को भी भारत में शामिल कर मोदी सरकार अखण्ड भारत के सपने को पूरा करने के लिए प्रयासरत है. तिवारी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने सुशासन की स्थापना और सबका साथ सबका विकास के सिद्धांत पर देश को बड़ी तेजी से विकास के पथ पर अग्रसर किया है सामाजिक सुरक्षा सम्मान और स्वाभिमान के लिए यहाँ कश्मीर से धारा 370 और 35 ए  सहित कानूनों को समाप्त किया वहीं समाज में करोड़ों महिलाओं के जीवन को नर्क बनाने वाली तीन तलाक जैसी कुप्रथा को समाप्त करने के लिए संसद में कानून बनाया.