Friday , 3 April 2020

मजदूरों की मदद के लिए बनाया ‘लखनऊ हेल्प कोरोना ग्रुप’

लखनऊ. तेजी से बढ़ते जा रहे कोरोना संक्रमण ने दुनिया भर की रफ्तार को थाम कर रख दिया है. ऐसे में लॉकडाउन के दौरान गरीब मजदूरों को सबसे ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में सभी दिहाड़ी मजदूरी करने वाले मजदूरों के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है. वहीं दूसरी तरफ उलेमा, बुद्धिजीवी व शिक्षाविद श्लखनऊ हेल्प कोरोना वाट्सअप ग्रुपश् बनाकर गरीब और बेसहारा लोगों की मदद कर रहे हैं. बता दें कि ये ग्रुप जरूरतमंदों को तलाश कर उन तक रोजमर्रा की जरूरतों का सामान पहुंचा रहे हैं. लखनऊ हेल्प कोरोना ग्रुप के एडमिन शादाब ने बताया कि शहर के हर इलाके में एक वॉलिंटियर रखा गया है. जो दिहाड़ी मजदूर या फिर गरीब परिवारों की पहचान करता है. उसके बाद उनकी जानकारी ग्रुप को देता है. फिर ग्रुप की ओर से जरूरत का सामान उन तक पहुंचाया जाता है. सामान खरीदने के लिए ग्रुप के सभी सदस्य मदद करते हैं. वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष डॉ. मौलाना कल्बे सादिक के पुत्र मौलाना सिब्तैन नूरी ने शहर के लोगों से अपील की है कि वह इस बात का ख्याल रखें कि उनके इलाके में गरीब व दिहाड़ी मजदूरी पर काम करने वाले भूखे न सोएं. मौलाना ने कहा कि कई लोगों ने गरीबों की मदद के लिए सोशल मीडिया पर ग्रुप बनाए हैं, जो ऐसे लोगों की शिनाख्त करके उन तक जरूरत का खाने पीने का सामान पहुंचा रहे हैं. मौलाना सैफ अब्बास ने कहा कि देश इस वक्त बुरे दौर से गुजर रहा है. ऐसे में जरूरतमंदों की मदद करने की यह मुहिम बहुत अच्छी है लेकिन इसमें सभी लोगों की मदद की जाए. चाहे वह किसी भी धर्म या जाति से ताल्लुक रखता हो. लोगों को चाहिए कि इस मुश्किल घड़ी में इंसानियत को धर्म बना कर अपने कर्तव्य को अंजाम दें.