Thursday , 19 September 2019
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रामदेवरा मंदिर में पूजा की

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रामदेवरा मंदिर में पूजा की

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बाबा रामदेव जयंती और तेजादशमी के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं. मुख्यमंत्री गहलोत शनिवार को जैसलमेर जिले के रामदेवरा मन्दिर पहुंचे और बाबा रामदेवजी के दर्शन एवं पूजा-अर्चना कर प्रदेश में खुशहाली और अमन-चैन की कामना की.

गहलोत को बाबा श्रीरामदेव मंदिर समिति के गादीपति भौमसिंह तंवर एवं पुजारी कमल छंगाणी ने विधि-विधान से पूजा करवाई. बाबा रामदेवजी की पवित्र झारी का जल आचमन करवाया एवं प्रसाद दिया. इसके बाद मुख्यमंत्री मंदिर परिसर में बाबा रामदेव की कचहरी में गए और वहां साफा पहनाकर एवं बाबा की तस्वीर भेंट कर उनका अभिनन्दन किया गया. मुख्यमंत्री ने बाबा रामदेव की अनन्य भक्त डालीबाई की समाधि के भी दर्शन किए.
मंदिर परिसर में बड़ी संख्या में मौजूद भक्तों ने हाथ हिलाकर मुख्यमंत्री का अभिवादन किया और ’जय बाबे की’ का घोष किया. मुख्यमंत्री ने भी हाथ हिलाकर श्रद्धालुओं का अभिवादन स्वीकार किया.
इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री डॉ. बी डी कल्ला, राजस्व एवं उपनिवेशन मंत्री हरीश चौधरी, अल्पसंख्यक मामलात मंत्री  शालेह मोहम्मद, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री भंवरसिंह भाटी, जिला प्रमुख अंजना मेघवाल, पोकरण नगरपालिका अध्यक्ष आनन्दीलाल गुच्छीया, संम्भागीय आयुक्त बीएल कोठारी, पुलिस महानिरीक्षक (जोधपुर रेंज) सचिन मित्तल, जिला कलक्टर नमित मेहता, पुलिस अधीक्षक डॉ. किरण कंग सहित अन्य अधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं गणमान्यजन उपस्थित थे.
गहलोत ने कहा कि बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी ने अपना जीवन बेसहारा, उपेक्षित एवं दीन-दुखियों की सेवा में समर्पित कर दिया. बाबा रामदेवजी का मेला साम्प्रदायिक सद्भाव की अनूठी मिसाल है. उन्होंने गरीबों और जरूरतमंदों की सेवा कर मानवता का अमिट संदेश दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि वीर तेजाजी ने गायों की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया. अपने अलौकिक गुणों से बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी लोकदेवता के रूप में पूजे जाते हैं.  मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों का आह्ववान किया कि वे बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी द्वारा बताए गए जनकल्याण के मार्ग पर चलकर सामाजिक समरसता बनाए रखने में अपनी सक्रिय भूमिका निभाएं और प्रदेश के विकास में हरसम्भव योगदान दें.