Thursday , 19 September 2019

मोहर्रमः छावनी मे तब्दील होगा पुराना लखनऊ, ड्रोन कैमरे से होगी निगरानी

लखनऊ. मोहर्रम का महीना शुरू होने मे मात्र अब एक सप्ताह का समय ही शेष रह गया है इस एक सप्ताह मे एसएसपी कलानिधि नैथानी लखनऊ पश्चिम क्षेत्र मे होने वाले मोहर्रम के सभी कार्यक्रमो और जुलूसो को शान्तीपूर्ण माहौल मे सम्पन्न कराने के लिए पूरी तरह से जुट गए है. एसएसपी कलानिधि नैथानी के कार्यकाल मे ये दूसरा मोहर्रम होगा इससे पहले भी वो मोहर्रम के सभी कार्यक्रम व जुलूसो को शान्तीपूर्ण माहौल मे सम्पन्न करा चुके है. मोहर्रम से पहले सुरक्षा की चााक चैबन्ध व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए एसएसपी कलसनिधि नैथानी ने शनिवार देर रात चाौक थाने की पाटानाला पुलिस चाौकी पर अपने मातहतो के साथ मीटिंग कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते हुए अपने मातहतो को सुरक्षा के गुर सिखाए और अपने मातहतो को जरूरी हिदायते दी. चाौक कोतवाली की पाटानाला पुलिस चाौकी पर हुई मीटिंग मे एएसपी पश्चिम विकास चन्द्र त्रिपाठी पश्चिम क्षेत्र के कैसरबाग, चाौक और बाजार खाला के सीओ के साथ सभी थानो के इन्स्पेक्टरो के अलावा सीओ एलआईयू भी मौजूद रहे. मीटिंग मे एसएसपी कलानिधि नैथानी ने अपने मातहतो को हिदायते दी कि पूर्व की भांति इस वर्ष भी पूरी मुस्तैदी से मोहर्रम के दौरान होने वाले सभी कार्यक्रमो और जुलूसो को शान्तीपूर्ण माहौल मे सम्पन्न कराने के लिए अभी से तैयारियो पूरी कर ली जाए. उन्होने अपने मातहतो से कहा कि मोहर्रम के दौरान उन्ही कार्यक्रमो और जुलूसो की इजाजत दी जाए जो पहले से निर्धारित है कोई भी नई परम्परा को कतई इजाजत न दी जाए. करीब दो घंटे तक चली मीटिंग के बाद एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि मोहर्रम के दौरान शन्ती व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पूरे क्षेत्र को जोन और सेक्टरो मे विभाजित कर दो अलग अलग शिफ्टो मे लगभग 60 राजपत्रित अधिकारियो और ढाई हजार अराजपत्रित फोर्स के साथ 14 कम्पनी पीएसी और 6 कम्पनी आरएएफ के जवानो को लगाया जाएगा. जुलूसो और मजलिस मातम के दौरान हालात पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे के अलावा 50 से ज्यादा पुलिस कर्मी माॅडी वार्न कैमरो के साथ मुस्तैद रहेगे. उन्होने बताया कि मोहर्रम के जुलूसो के दौरान एटीएस की क्यूआरटी भी मुस्तैद रहेगी इसके अलावा उन्होने एलआईयू के अलावा क्राईम ब्रान्च को भी सर्तकता बरतने के निर्देश दिए है. एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि पूर्व की भांति इस वर्ष भी अतिरिक्त क्यूआरटी मूवमेन्ट मे रहेंगी और गली मोहल्लो में चक्कर लगाती रहेगी. एसएसपी ने सभी पुलिस कर्मियो को हिदायत दी है कि वो डियूटी के दौरान दंगा विरोधी उपकरणो से पूरी तरह से लैस रहे. आपको बता दे कि एसएसपी कलानिधि नैथानी के कार्यकाल मे ये दूसरा मोहर्रम है इससे पहले भी वो लखनऊ मे मोहर्रम को पूरी शान्ती के साथ सम्पन्न करा चुके है.
वैसे तो मोहर्रम के दौरान पूरे लखनऊ जोन के अफसरो को लखनऊ मे विशेष कर बुलाया जाता है बाहर से डियूटी पर आने वाले अफसर भले ही लखनऊ के मिजाज से वाकिफ न हो लेकिन पुराने लखनऊ की नब्ज से पूरी तरह से वाकिफ कई अफसर पुराने लखनऊ मे ही काफी लम्बे समय से तैनात है जिनके कान्धो पर ज्यादा ही जिम्मेदारी होगी. एएसपी विकास चन्द्र त्रिपाठी अपने कार्यकाल मे ये तीसरा मोहर्रम सम्पन्न कराएगे सीओ बाजार खाला और सीओ चाौक भी पुराने होने की वजह से तीसरा मोहर्रम सम्पन्न कराएगे. इन्स्पेक्टर ठाकुरगंज नीरज ओझा का भले ही ठाकुरगंज मे पहला वर्ष है लेकिन इससे पहले वो संवेदनशील क्षेत्र मे मानी जाने वाली नख्खास पुलिस चाौकी पर तीन वर्ष से ज्यादा समय तक तैनात रह चुके है इसके अलावा करीब दो वर्षो तक वो इन्स्पेक्टर सआदतगंज भी रह चुके है. पुराने लखनऊ के मिजाज को इन्स्पेक्टर चाौक पंकज सिंह से ज्यादा शायद ही कोई नही जानता हो क्यूकि पंकज सिंह इन सब अधिकारियो से ज्यादा लम्बे समय तक पुराने लखनऊ मे तैनात रह चुके है. पंकज सिंह मौजूदा समय मे तो इन्स्पेक्टर चाौक है लेकिन इससे पहले वो सआदतगंज वजीरगंज ठाकुरगंज थानो की कमान भी लम्बे समय तक सम्भाल चुके है यही नही पंकज सिंह नख्खास चाौकी पर भी लम्बे समय तक इन्चार्ज रह चुके है इसके अलावा वो बाजार खाला थाने पर लम्बे समय तक तैनात रह चुके है. कहा जाता है कि इन्स्पेक्टर पंकज सिंह पुराने लखनऊ का जाना मना चेहरा है और उन्हे लोग मोहर्रम स्पेशलिस्ट भी कहते है. इस लिहाज से मोहर्रम के दौरान होने वाले सभी कार्यक्रमो को शान्तीपूर्ण माहौल मे सम्पन्न कराने की सबसे जिम्मेदारी इन्ही अफसरो पर रहेगी.
संवेदनशील माने जाने वाले पुराने लखनऊ के सआदतगंज थाने की कमान मौजूदा समय मे मात्र 6 माह पूर्व लखनऊ आए इन्स्पेक्टर महेश पाल ंिसंह के हाथ मे है वैसे तो 6 महीने का समय सोंचने और समझने के लिए कम नही होता है लेकिन मोहर्रम के दौरान अधिक्तर कार्यक्रम सआदतगंज क्षेत्र मे ही सम्पन्न होते है और सआदतगंज थाने के इन्चार्ज पर जिम्मेदारियो भी बहोत ज्यादा होती है ऐसे मे इन्स्पेक्टर महेश पाल सिंह के लिए चुनौती बड़ी है. इसी तरह से इन्स्पेक्टर बाजार खाला विजयेन्द्र कुमार सिंह भी पुराने लखनऊ के लिए ज्यादा पुराने नही है उन्हे भी इस क्षेत्र का अनुभव एक ववर्ष से कम का ही है इसके अलावा इन्स्पेक्टर बाजार खाला अपनी तल्ख मिजाजी के लिए भी पहचाने जाते है बाजार खाला थाना क्षेत्र मे वैसे तो मोहर्रम के दौरान बहोत ज्यादा कार्यक्रम नही होते है लेकिन दो बड़े जुलूस यौमे आशूरा और चेहल्लुम का जुलूस बाजार खाला थाना क्षेत्र से निकलता है और अब इस रास्ते पर ब्रिज का निर्माण भी चल रहा है ऐसे मे जुलूस निकलने मे लोगो को परेशानी हो सकती है ऐसे हालात मे उन पर जिम्मेदारिया ज्यादा होगी कि वो ब्रिज निर्माण को जूुलूस के रास्ते की बाधा बनने से बचाए. इन दो इन्स्पेक्टरो के लिए आगामी मोहर्रम किसी परीक्षा से कम नही होगा.