Thursday , 19 September 2019
शिशुओं के लिए लंबा सफर है खतरनाक

शिशुओं के लिए लंबा सफर है खतरनाक

अधिकतर माता-पिता सफर करते समय अपने बच्चे को कार में सीट बेल्ट बांधकर लंबे समय तक बिठाए रखते हैं, जो कि बिल्कुल सही नहीं है. दरअसल, एक सर्वे में पता चला है कि बहुत छोटे बच्चों को लंबे समय तक कार की सीट में बैठाए रखना खतरनाक है. इसके चलते अभिभावकों को यह चेतावनी दी जाती है कि कार की सीट पर छह सप्ताह से कम उम्र के बच्चों को 30 मिनट से ज्यादा बैठाकर न रखें.

सर्वे के मुताबिक, 75 फीसदी अभिभावक यह नहीं जानते कि बच्चे को एक समय में 30 मिनट से ज्यादा नहीं बैठाना चाहिए. ऐसा करने से नींद की स्थिति में काफी छोटे बच्चे को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है.

चर्चिल कार इंश्योरेंस की शोधकर्ता ने कहा, वहीं लगभग दो तिहाई अभिभावकों को यह नहीं पता कि नवजात शिशुओं के साथ यात्रा करते समय हर दो घंटे में कम-से-कम 15 मिनट का एक लंबा ब्रेक लेना चाहिए. यह सर्वे 2,000 वयस्कों पर किया गया. इसमें पाया गया कि बच्चों के इस खतरे को लेकर नए अभिभावक उन लोगों के मुकाबले अधिक जागरूक थे, जिनकी आयु 35 या उससे अधिक है.

लंबे सफर के दौरान ब्रेक लेना जरूरी-
ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के सेफ्टी एक्सपर्ट प्रोफेसर पीटर फ्लेमिंग ने कहा, कार से सफर करते समय अभिभावाकों को छोटे बच्चों के लिए एक बेहतरीन कार सीट का इंतजाम करना बेहद जरूरी है. सफर के बाद बच्चे को हमेशा सीट से बाहर निकाल देना चाहिए और उसे एक आरामदायक बिस्तर पर सुला देना चाहिए. उन्होंने आगे कहा, कार की सीटें नवजात शिशुओं को लंबे समय तक सुलाने को ध्यान में रखकर डिजाइन नहीं की जाती हैं.

प्रोफेसर फ्लेमिंग ने ललबाई ट्रस्ट द्वारा पिछले शोध का संचालन करने में मदद की. इसमें पता चला कि अपनी झुकी हुई अवस्था के कारण नवजात शिशु आधे घंटे तक 40 डिग्री के कोण पर बैठने से प्रभावित हो सकते हैं. चर्चिल में कार इंश्योरेंश की हेड एलेक्स बॉर्गनिस ने कहा, नवजात शिशुओं के साथ आमतौर पर ड्राइविंग नहीं करनी चाहिए.

कार से सफर करने से बचें-
शोधकर्ता फ्लेमिंग का कहना है कि बच्चे के जन्म के बाद पहले चार से छह सप्ताह में अभिभावकों को बच्चे के साथ 30 मिनट से ज्यादा का सफर कार से नहीं करना चाहिए. साथ ही जब भी संभव हो एक व्यक्ति को बच्चे के साथ कार की पिछली सीट पर बैठकर ही यात्रा करनी चाहिए, ताकि वह उसकी पोजिशन और सेहत का ध्यान रख सके. उनके मुताबिक, अगर अभिभावकों का लंबी यात्रा पर जाना बेहद जरूरी है, तो बीच-बीच में नियमित रूप से ब्रेक जरूर लें. इस दौरान बच्चे को जितना संभव हो सके कार की सीट से बाहर निकालें.