Monday , 25 June 2018

स्मार्ट शहरों में पशु-पक्षियों को भी मिलेगा आशियाना, बनेंगे हॉस्टल

नई दिल्ली: स्मार्ट शहरों में अब पशु-पक्षियों को भी ठौर मिलेगा. इन सभी शहरों में पशु -पक्षियों के लिए हॉस्टल या शेल्टर हाउस बनाए जाएंगे. जहां इनके खाने-पीने का पूरा बंदोबस्त होगा. एनीमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया ने इसे लेकर फैसला लिया है. साथ ही शहरी विकास मंत्रालय से योजना में इसे शामिल करने के निर्देश दिए है.
बोर्ड ने इसके अलावा शहरों में पशुओं के सड़कों या खुले में घूमने को क्रूरता करार दिया और कहा कि इसके लिए स्थानीय प्रशासन जिम्मेदार है. उसे इसकी रोकथाम करनी चाहिए.
एनीमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया (एडब्लूबीआई) के चेयरमैन एसपी गुप्ता ने गुरूवार को बोर्ड की बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि स्मार्ट शहरों को इको-फ्रेंडली बनाने का प्रधानमंत्री मोदी का सपना तभी पूरा होगा, जब इनमें पशु-पक्षी रहेंगे.
उन्होंने कहा कि स्मार्ट शहरों से पशु-पक्षियों को यदि निकाला गया, तो यह क्रूरता की श्रेणी में आएगा. जो ऐसा करेगा, उसके खिलाफ बोर्ड कार्रवाई भी करेगा. एडब्लूबीआई की बैठक में इसके अलावा चारागाह की भूमि को कब्जे से मुक्त कराने और उसे सुरक्षित कराने का भी फैसला लिया गया है. सभी राज्य सरकारों को इसे लेकर निर्देश दिए गए है.
बोर्ड का कहना है कि यह भूमि ग्राम पंचायत से शहरों के स्तर पर भी सुरक्षित की जाए. बोर्ड के चेयरमैन ने बताया कि बोर्ड के कामकाज को मजबूत बनाने के लिए इसका एक त्रिस्तरीय ढांचा भी तैयार होगा, जो राष्ट्रीय के साथ-साथ राज्य और जिला स्तरीय भी होगा. फिलहाल वह सभी जिलों में एक एनीमल वेलफेयर अधिकारी तैनात कर रहे है. जो जिलों में क्रूरता से जुड़े मामलों पर नजर रखेगा.
-अवारा पशुओं की समस्या से यूपी को मिलेगी निजात
-शराब पर टैक्स लगाकर सरकार कर सकती है चारे-पानी का इंतजाम

अवारा पशुओं की समस्या से परेशान उत्तर प्रदेश को इससे निजात मिल सकती है. सरकार इनके लिए कांजी हाउस के ढांचे को मजबूत बनाने और उनके चारे-पानी के लिए इंतजाम करने की कोशिशों में जुटी हुई है. इसके लिए शराब पर एक रूपए तक का टैक्स भी लगाया जा सकता है. यह जानकारी गुरूवार को एनीमल वेलफेयर बोर्ड के चेयरमैन एसपी गुप्ता ने पत्रकारों से चर्चा में दी.
उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी से इस मुद्दे पर चर्चा हुई है. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को अवारा पशुओं के लिए योजना बनाने को कहा है. जल्द ही यह योजना सामने आ सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*