Monday , 10 December 2018
बच्चों में लगातार बढ़ता मोबाइल का चलन शताब्दी की नई महामारी: डा. दीपक

बच्चों में लगातार बढ़ता मोबाइल का चलन शताब्दी की नई महामारी: डा. दीपक

 इंटरनेट और नशे की लत युवाओं और युवतियों के सुसाइड का है मुख्य कारण
कानपुर, 11 नवम्बर (उदयपुर किरण). समाज में लगातार इंटरनेट के चलन के साथ ही आधुनिकता का दौर बढ़ता जा रहा है, तो वहीं कई कारणों के चलते युवाओ और युवतियों के सुसाइड किये जाने के मामलों में इजाफा हो रहा है.
इन सभी बिन्दुओं पर चर्चा करने के लिए रविवार को बदलती दुनिया में युवा और उनका मानसिक स्वास्थ पर एक सेमीनार का आयोजन किया गया. जिसमें आरएमएल आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डाक्टर दीपक मालवीय ने बच्चों में लगातार बढ़ते मोबाइल के चलन को शताब्दी की नई महामारी बताया.
गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल (जीएसवीएम) कालेज के सभागार में इंडियन साइकियाट्रिक सोसाइटी और य़ूथ मेंटल हेल्थ स्पेशालिटी की ओर से आयोजित किये गये सेमीनार में कई विशेषज्ञों ने हिस्सा लेते हुए लगातार बढ़ते सुसाइड की घटनाओ पर चिन्ता जाहिर करते हुए अपने विचार व्यक्त किये. उनका कहना था कि युवाओ में बढने वाले मानसिक रोग के पीछे बाइपोलर डिसआर्डर, अवसाद, नशे की लत और झगड़ालू प्रवृत्ति है. आरएमएल आयुर्विज्ञान संस्थान के डायरेक्टर डाक्टर दीपक मालवीय इस सेमीनार में मुख्य तौर पर हिस्सा लिया.
आरएमएल आयुर्विज्ञान संस्थान की प्रोफेसर इंदिरा शर्मा ने कहा कि बदलते परिवेश में अभिवावकों को इस ओर अधिक ध्यान देने की जरुरत है. जीएसवीएम मेडिकल कालेज की प्राचार्या डा. आरती लाल चन्दानी ने कहा कि युवा अवस्था में शुरुआती बदलाव भी मानसिक तनाव के कारण होते है. परिवर्तन एक ओर युवाओं में जोश तो भरते है साथ ही नयी चुनौतियां और तनाव का भी सामना करना पड़ता है. इस दौरान एक प्रदर्शनी भी लगाई गई. इस दौरान प्राचार्या डा. आरती लाल चंदानी सहित कई विभागाध्यक्ष और जूनियर डाक्टर भी मौजूद रहे.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*