Monday , 21 January 2019
जो गंगा का नाम लेता है उसके सारे पाप कट जाते हैं- श्री जीयर स्वामी

जो गंगा का नाम लेता है उसके सारे पाप कट जाते हैं- श्री जीयर स्वामी

कुंभ नगरी(प्रयागराज), 14 जनवरी (उदयपुर किरण). श्री त्रिदंडी स्वामी के शिष्य श्री जीयर स्वामी महाराज का पदार्पण कुंभ नगरी प्रयागराज में हो गया है. 12 नम्बर सेक्टर में भव्य तरीके से स्वामी जी का शिविर का निर्माण कार्य चल रहा है. उनके दर्शन व आशीर्वाद के लिए बिहार समेत कई राज्यों के श्रद्धालुओं का आना शुरु हो गया है. श्री जीयर स्वामी महाराज ने हिन्दुस्थान समाचार से अनौपचारिक वार्ता में प्रयागराज तथा माता गंगा का दर्शन का फल बताते हुए कहा कि जो गंगा का नाम लेता है उसके सारे पाप कट जाते हैं. जो गंगा का स्नान करता है जन्मों—जन्मों का पाप कट जाता है. और जो गंगा का नाम भजता है वह सारे बंधन से मुक्त हो जाता है.

स्वामी जी ने कहा कि जिस घर में गंगा, गीता, गौ तथा गायत्री की पूजा होती हो. बड़े बुजुर्गों का सम्मान मिलता हो, माता पिता को सम्मान मिलता हो, उस घर में लक्ष्मी का वास होता है. जिस घर में संत महात्मा तथा वैदिक पुराणों का अपमान होता है. माता पिता का अपमान होता है. उस घर से लक्ष्मी रुष्ट हो जाती है. स्वामी जी के शिविर में 1008 कुंडये मंडप का निर्माण चल रहा है. जिसमें पांच दिवसीय लक्ष्मी नारायण यज्ञ होना है. जिसकी जलभरी 30 जनवरी को होनी है. इसके लिए व्यापक पैमाने पर तैयारियां की जा रही है. सैंकड़ों की संख्या में भक्तगण पूरे भारत के कोने-कोने से आकर सेवा में लगे हुए हैं.

उनके मीडिया प्रति​निधि अखिलेश बाबा ने बताया कि एक आंकलन के अनुसार प्रयागराज कुंभ का सबसे बड़ा द्वार गेट श्री स्वामी जी के शिविर का ही है. जो एक अनोखा पहचान है. यह अपने आप में लोगों को आकर्षित कर रहा है.  बताया कि पूरे भारत में इनके इतने भक्त हैं कि प्रतिदिन सुबह से शाम तक मिलने के लिए तांता लगा हुआ है. दूर-दूर से साधु संत भी इनका प्रवचन सुनने के लिए आते हैं. भीड़ को देखते हुए काफी बड़े पैमाने पर रहने खाने की व्यवस्था की गई है. मीडिया प्रभारी अखिलेश बाबा ने बताया कि हर कदम पर स्वामी जी अपने से नजर रख रहे हैं. ताकि किसी को कोई परेशानी ना हो.सभी आने जाने वाले भक्तों के लिए उचित व्यवस्था की गई है. ताकि किसी को कोई परेशानी ना हो.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*