Thursday , 23 May 2019
#Election2019: पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में हिंसा, मोहम्मद सलीम के काफिले पर फायरिंग

#Election2019: पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में हिंसा, मोहम्मद सलीम के काफिले पर फायरिंग

BANGAL

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में तीन सीटों पर मतदान हो रहा है. वोटिंग के दौरान कई जगहों पर हिंसा की खबरें सामने आईं. इस दौरान इस्लामपुर में उस वक्त अफरा तफरी मच गई जब लेफ्ट के बड़े नेता मोहम्मद सलीम के काफिले पर अज्ञात बदमाशों ने हमला कर दिया.

बाल बाल बचे सलीम

जानकारी के मुताबिक बदमाशों ने उनके काफिले को निशाना बनाकर कथित रूप से फायरिंग की. फिलहाल घटना में मोहम्मद सलीम बाल बाल बच गऐ.जब उनके उपर हमला हुआ तब वे इस्लामपुर के गिंदी इलाके में मौजूद थे.

लोगों ने लगाया तृणमूल कांग्रेस पर आरोप

लोगों ने आरोप लगाया की लेफ्ट नेता पर यह हमला कथित रूप से तृणमूल कांग्रेस के लोगों ने किया.मो. सलीम रायगंज सीट से सांसद हैं.इस घटना के बाद इलाके में तनाव की स्थिती पैदा हो गई है.

तनाव की स्थिती को देखतो हुए पुलिस ने पुरे इलाके को घेर लिया है.मोहम्मद सलीम ने एक दिन पहले कहा था कि उन्हें इस बात की जानकारी मिली है.

यहां पर अल्पसंख्यक लोगों को गलत तरीके से प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है. इसका पता करने के लिए वह वहां का दौरा करेंगे. बताया जा रहा है कि घटना के बाद मोहम्मद सलीम को इस्लामपुर स्थित उनके पार्टी कार्यालय ले जाया गया.

माकपा ने जारी किया बयान

सलीम पर हमले के बाद माकपा ने बयान जारी किया है. माकपा ने अपने बयान में टीएमसी पर चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है. केंद्रीय मंत्री एवं आसनसोल से भाजपा उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो ने भी मोहम्मद सलीम के काफिले पर हुए हमले के लिए टीएमसी पर निशाना साधा है.

बता दें कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में तीन सीटों पर मतदान हो रहा है. पहले चरण में यहां की दो सीटों पर मतदान हुआ था. इस राज्य में मुख्य मुकाबला भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच माना जा रहा है. पश्चिम बंगाल का चुनावी इतिहास रक्त रंजित रहा है.

पश्चिम बंगाल के तीन लोकसभा संसदीय क्षेत्रों रायगंज, जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग में गुरुवार को दूसरे चरण के चुनाव के लिए हो रहे मतदान के हिंसा से लोग दहशत में हैं.

मतदाताओं के साथ की मारपीट

वहीं दुसरी ओर रायगंज के चोपड़ा में भयभीत लोगों को जाम लगाकर गुहार लगानी पड़ी. चोपड़ा में मतदाताओं के साथ मारपीट हुई है.

आरोप है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने आम मतदाताओं को पोलिंग बूथ जाने से रोका. कई महिला मतदाताओं को घेरकर पीटा.

तृणमूल समर्थकों ने इस दौरान कुछ लोगों को उठाकर ले जाने की कोशिश की. हालांकि गांववालों ने तृणमूल कार्यकर्ताओं को खदेड़ने की कोशिश की.

लोगों ने लगाया जाम

भयभीत और असहाय लोगों ने गुहार लगाते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर दिया. इसके बाद चुनाव आयोग की नींद टूटी. तत्काल केंद्रीय और राज्य पुलिस के जवानों को मौके पर भेजा गया.

भयभीत लोगों ने कहा तृणमूल कांग्रेस ने पुलिस को खरीद लिया है. पुलिस के संरक्षण में हिंसा हो रही है.

लोगों ने बताया कि तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के खौफ से मतदाता घरों से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे है. सुबह सात बजे के बाद यहां आपातकाल जैसे हालात बन गए.

पुलिस के आने पर हुआ मतदान

लोगों ने कहा की केंद्रीय सुरक्षा बलों के आने पर ही मतदान करेंगे. एक महिला मतदाता ने कहा है कि रास्ते में उसे तृणमूल कार्यकर्ताओं ने घेर लिया. उसके साथ मारपीट की.

विरोध करने पर कपड़े खींचे. वह जैसे-तैसे अपनी जानकर भागी. एक दूसरी महिला ने कहा, तृणमूल कांग्रेस के लोग मतदाताओं के साथ मारपीट कर रहे हैं.

इस बीच चुनाव आयोग के अधिकारियों ने पुलिस और केंद्रीय बल के जवानों की मौजूदगी में लोगों को मतदान केंद्रों तक ले जाने की कोशिश की. कहा जा रहा है कि लोग इसके लिए तैयार नहीं हुए.मटदाताओं अब भी विरोध जारी है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*