Tuesday , 16 July 2019

चारधाम : सर्दी के बावजूद चारधाम पहुंचे 1.40 लाख श्रद्धालु

देहरादून.गंगोत्री और यमुनोत्री धामों के कपाट खुलने के बाद से ही इन दोनों धामों पर यात्रियों की संख्या में काफी इजाफा देखने को मिला है. कपाट खुलने से महज छह दिन की यात्रा में 65 हजार से अधिक यात्री दर्शन कर चुके हैं. यात्रियों की संख्या में वृद्धि से होटल व्यवसायियों के चेहरे खिले हुए हैं. बदरीनाथ धाम में रविवार को 20 हजार से अधिक यात्रियों ने भगवान के दर्शन किये. रविवार तक तक देश दुनिया से 45 हजार श्रद्धालु बदरीनाथ दर्शन के लिये पहुंचे हैं. बदरीनाथ केदार नाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल बदरीनाथ में ही रहकर यात्रा व्यवस्था और प्रबंधन का हर पल जायजा ले रहे हैं. केदारनाथ धाम में इस बार मौसम तीर्थयात्रियों के लिए परेशानी का कारण बन रहा है.
केदारनाथ धाम में एक घंटा बर्फबारी हुई, जबकि दोपहर बाद बारिश हुई. इससे केदारपुरी में ठंड लगातार बढ़ रही है. बीते दो दिनों से केदारनाथ धाम में मौसम मुसीबत पैदा कर रहा है. एक ओर कठिन रास्ते से यात्री केदारनाथ पहुंच रहे है, वहीं यहां खराब मौसम यात्रियों की दिक्कतें बढ़ा रहा है. रविवार को सुबह सुबह केदारनाथ धाम में एक घंटा बर्फबारी हुई. जबकि इसके बाद आसमान में बादल छाए रहे. दोपहर बाद धाम में बारिश हुई. ठंड से बचने के लिए प्रशासन द्वारा अनेक स्थानों पर अलाव जलाए गए हैं.
चारधाम यात्रा के मुख्य पड़ाव यमुनोत्री धाम में रविवार को पूरे दिन भर बारिश होती रही. इससे यमुनोत्री धाम की यात्रा पर आए तीर्थ यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा. बारिश के कारण यमुनोत्री धाम में हो रहे पुनर्निर्माण कार्य भी बाधित रहे. गंगोत्री धाम में भी शुक्रवार से मौसम निरंतर परिवर्तित हो रहा है. शुक्रवार व शनिवार को गंगोत्री धाम में हल्की बारिश हुई. दोनों धामों में ठंड से तीर्थयात्रियों को ठंड महसूस हुई. जिससे बचने के लिए लोगों ने रेन कोट व गर्म कपड़ों सहारा लिया. विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम के कपाट गत सात मई को देश विदेश के श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले गए थे.

गंगोत्री में तापमान :-

अधिकतम 11
न्यूनतम -01

यमुनोत्री में तापमान :-

अधिकतम 10
न्यूनतम-03

बदरीनाथ में तापमान :-

अधिकतम 12
न्यूनतम 05

केदारनाथ में तापमान :-

अधिकतम 11
न्यूनतम -04

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*