Tuesday , 16 July 2019

ड्यूटी चाहिए मेरा बिस्तर गर्म करना पड़ेगा, जब तक करती रहेगी तुझे ड्यूटी मिलती रहेगी !

उदयपुर. अगर ड्यूटी चाहिए तो मुझे खुश करना पड़ेगा, जब तक मेरा बिस्तर गर्म करती रहेगी तुझे ड्यूटी मिलती रहेगी, नहीं तो घर ही बैठना पड़ेगा. एक विधवा के लिए इसके अलावा कुछ बचा भी नहीं था, न चाहते हुए भी अपना जिस्म उस वहशी दरिन्दे को सौंपती रही. उसकी भी मजबूरी थी क्यूंकि घर का गुजारा जो चलाना था. हवस के इस पुजारी ने पीड़िता के अश्‍लील फोटो भी खींच लिए और अब बदनाम करने के नाम पर मनचाहे जब उसके जिस्म से खेलता रहता है. लेकिन अब वह और नहीं सहेगी, क्यूंकि जैसे – तैसे उसने अपनी इकलौती बेटी की शादी करा दी है और अब उसमें बोलने की हिम्मत आ गई है.

बीते छह सालों की दुखभरी कहानी और किसी की नहीं है महिलाओं की सुरक्षा के लिए हर पल तैनात रहने वाली एक होमगार्ड की है. साल 2013 में उसके पति की मौत के बाद प्लाटून कमाण्डर सही शब्‍दों में एक थानेदार जो लम्बे समय से होमगार्ड विभाग में तैनात है उसने ही इस विधवा की इज्जत को कई बार तार – तार किया है. उस हवस के पुजारी का नाम है दरोगा छोगालाल जोशी. जिसकी गंदी नीयत और हरकतों से परेशान महिला होमगार्ड जिला पुलिस अधीक्षक कैलाश विश्‍नाई की शरण में पंहुची. जहां परिवाद देकर दरिंदे छोगालाल के खिलाफ र्कारवाई की मांग की. आप भी सीनिए पीड़िता की दुखभरी कहानी उसी की जुबानी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*