Tuesday , 18 June 2019

इंसेफेलाइटिस से अब तक 57 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य मंत्री ने किया मुजफ्फरपुर के अस्पताल का दौरा

मुजफ्फरपुर.बिहार में मस्तिष्क ज्वर (चमकी बुखार) की चपेट में आने से अब तक 57 बच्चों की मौत हो गई है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने शुक्रवार को मुजफ्फरपुर में श्रीकृष्ण अस्पताल का दौरा किया. उन्होंने अस्पताल का दौरा कर तैयारियों का जायजा लिया.मंगल पांडे ने कहा कि इंसेफेलाइटिस से 20-22 दिनों में 57 बच्चों की मौत हो चुकी है. मरीजों को दवाएं और आवश्यक चीजें उपलब्ध करवाई जा रही हैं. मरीजों की देखभाल के लिए अस्पताल में अधिकतर डॉक्टरों को तैनात किया गया है. श्रीकृष्ण मेडिकल कालेज के अधीक्षक डॉक्टर सुनील शाही ने बताया कि हालात का जायजा लेने दिल्ली से आई केंद्रीय टीम पटना लौट गई और यह टीम जल्द अपनी रिपोर्ट सौपेंगी. यह एक दिमागी बुखार है जो कि वायरल संक्रमण की वजह से फैलता है. यह मुख्य रुप से गंदगी में पनपता है. जैसे ही यह हमारे शरीर के सपंर्क में आता है वैसे ही यह दिमाग की ओर चला जाता है. यह बीमारी ज्यादातर 1 से 14 साल के बच्चे एवं 65 वर्ष से ऊपर के लोगों को होती है.
डॉक्टरों का कहना है कि इससे बुखार, सिरदर्द, ऐंठन, उल्टी और बेहोशी जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं. रोगी का शरीर निर्बल हो जाता है. वह प्रकाश से डरता है. कुछ रोगियों के गर्दन में जकड़न आ जाती है. डॉक्टरों के अनुसार, कुछ रोगी लकवा के भी शिकार हो जाते हैं. इंसेफेलाइटिस से बचने के लिए समय से टीकाकरण करवाना चाहिए. गंदे पानी के संपर्क में आने से बचना चाहिए. इस बीमारी से बचने के लिए मच्छरों से बचाव करें और घरों के आस-पास पानी न जमा होने दें. माता-पिता को इस बीमारी से ग्रसित बच्चों का खास ध्यान रखना चाहिए. बच्चों को ओआरएस या नींबू पानी का घोल पिलाएं. बच्चों को कभी भी खाली पेट न सोने दें. साफ-सफाई का विशेष रखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*