Sunday , 21 July 2019

ऐसी खेती करें, जिससे समाज को लाभ हो: नीलकंठ सिंह मुंडा

खूंटी, 16 जून (हि. स.). खूंटी जिले को अफीम की खेती के कलंक से मुक्त कराने के लिए सरकार ने यहां जिरेनियम समेत अन्य औषधीय पौधों को बढ़ावा देने का प्रयास प्रारंभ किया है. इसे गति देने का काम सेवा वेलफेयर सोसाइटी द्वारा किया जा रहा है.

इसी क्रम में पहली बार खूंटी में जिरेनियम समेत अन्य औषधीय पौधों का प्रशिक्षण कार्यक्रम सलेश्वरी भवन, कुंजला में रविवार को आयोजित किया गया, जिसमें खूंटी, मुरहू, तोरपा, कर्रा और अड़की प्रखंडों से जागरूक किसान शामिल हुए. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, जिला बीस सूत्री क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष ओपी कश्यप, मुरहू प्रखंड बीस सूत्री के अध्यक्ष काशीनाथ महतो शामिल हुए. कार्यक्रम का विषय प्रवेश संस्था के अध्यक्ष ए शर्मा ने और संचालन एस ठाकुर ने किया. आयोजन में सचिव एस भेंगरा, निखिल कुमार, देवा हस्सा, रोमल टूटी आदि ने  योगदान दिया. प्रशिक्षक के रूप में औषधीय पौधों की विशेषज्ञ बरदानी लकड़ा और सुमन बारला ने लोगों को जिरेनियम की खेती और बाजार के बारे में जानकारी दी. उत्सुकता पूर्वक पूरे चार घंटे किसान प्रशिक्षण कार्यक्रम में जमे रहे और विशेषज्ञों द्वारा दी गयी जानकारी का लाभ उठाया.

किसानों को संबोधित करते हुए मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि हमारा फर्ज है कि हम परिवार और समाज के उज्जवल भविष्य के संबंध में चिंता करें. इस कारण हमें ऐसे चीजों की खेती करनी चाहिए, जिससे परिवार और समाज को लाभ हो. हमारा समाज बदनाम और बर्बाद ना हो. मंत्री ने कहा कि जब उन्हें यह जानकारी मिली कि जिरेनियम की खेती पहाड़ी इलाकों में होती है और इसकी खेती में काफी मुनाफा है, तब जाकर सरकार ने खूंटी में जिरेनियम समेत अन्य औषधीय पौधों तुलसी, मेंथा, लेमनग्रास आदि औषधीय पौधों की खेती प्रारंभ कराया, ताकि किसानों के जीवन में खुशहाली आ सके. मंत्री ने कहा कि प्रयोग के तौर पर खूंटी के कपरिया में जिरेनियम की खेती की गयी, जो सफल हुई है. 25 डिसमिल खेत में लगी फसल से तीन लीटर तक तेल निकलता है, जिससे किसान को पचास हजार रुपये प्राप्त होते हैं. लेमन ग्रास से तेल निकालने का प्लांट अनिगड़ा में लगाया गया है, जहां हाल में ही 50 लीटर तेल का उत्पादन किया गया. कालामाटी में 50 एकड़ में तुलसी की खेती की गयी है. मंत्री ने कहा कि सरकार खेती के क्षेत्र में अनेक काम कर रही है, किसानों को सिंचाई सुविधा मुहैया कराने के लिए 120 गांवों में सोलर आधारित लिफ्ट इरिगेशन सिस्टम स्थापित किये गये हैं. तरबूज और गेंदा फूल की खेती में खूंटी काफी आगे निकल चुका है. इसके बारे में जितना भी कहा जाए, कम होगा. उन्होंने कहा कि सेवा वेलफेयर सोसाइटी ने यह प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर सरकार की योजना को जन-जन तक पहुंचाने की दिशा में सराहनीय कार्य किया है.

मंत्री ने कहा कि खूंटी समेत संपूर्ण झारखंड में बारिश पर्याप्त होती है, लेकिन बारिश का पानी नदी-नालों से बहकर निकल जाता है. सरकार वर्षा के पानी को रोककर धरती की कोख तक पहुंचाने के लिए जलछाजन योजना चला रही है. उन्होंने कहा कि खूंटी जिले में सरकार पांच नयी जलछाजन योजनाएं लेकर आ रही है, जिससे बारिश के पानी को रोककर भूगर्भीय जल स्तर को बढ़ाया जा सके और राज्य को जलसंकट से निजात दिलाया जा सके. उपज बढ़ाकर किसानों के आय को दोगुना करने के लिए हाईब्रीड बीज किसानों को मुहैया कराये जा रहे हैं. सखी मंडल की दीदियों को प्रशिक्षण देकर किसानों की आय बढ़ाने की हर कोशिश सरकार कर रही है. उन्होंने कहा कि सरकार बिरसा आम बागवानी पर पिछले कई सालों से जोर दे रही है. खूंटी जिले के पश्चिमी इलाकों में 250 एकड़ खेत लहलहा रहे हैं. आमों के पेड़ों पर आम झूल रहे हैं, जिससे किसानों की आय वृद्धि हो रही है. उन्होंने कहा कि सखी मंडलोंं, मेहनती किसानों और सरकार के सामंजस्य से खूंटी जिला जल्द ही आदर्श बनेगा.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*