Tuesday , 16 July 2019

1.79 लाख के फैंसीडिल के साथ दो तस्कर गिरफ्तार

Kolkata, 13 जुलाई (उदयपुर किरण). भारत और बांग्लादेश सीमा पर तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की टीम ने चार अलग-अलग मामलों में 1.79 लाख रुपये के फैंसीडिल के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इनकी गिरफ्तारी 12 जुलाई की मध्य रात से लेकर 13 जुलाई सुबह तक हुई है. शनिवार शाम इस बारे में बीएसएफ की ओर से आधिकारिक तौर पर विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी गई है. बीएसएफ दक्षिणी कमान के प्रवक्ता अयोध्या कर्मकार ने बताया कि सबसे पहले Kolkata सेक्टर के भोजाडांगा सीमा पर अवैध तरीके से फैंसीडिल की तस्करी की सूचना मिली थी. इसके बाद बीएसएफ की टीम ने खुफिया सूत्रों की मदद ली तो पता चला कि क्षेत्र के दक्षिणपाड़ा गांव में एक घर के अंदर फैंसीडिल की बोतल एकत्रित रखी गई है. इसे सीमा पार तस्करी किया जाना है. इसके बाद कस्टम अधिकारियों को साथ लेकर उक्त गांव में रामप्रसाद घोष नाम के एक व्यक्ति के घर छापेमारी की गई. वहां रामप्रसाद घोष तो फरार हो गया लेकिन एक बांग्लादेशी तस्कर मोहम्मद लाल्टू हुसैन को धर दबोचा गया. वह फैंसीडिल को खरीदने के लिए आया हुआ था. घर की तलाशी लेने पर वहां से 652 बोतलों में भरकर रखे गए फैंसीडिल को जब्त किया गया है. इसकी कीमत 91 हजार‌ 442 रुपये है. इसके अलावा 23 बोतलों में भरकर रखी गई विदेशी शराब जब्त हुई है उसकी कीमत 6479 रुपये है. इसके अलावा 35570 रुपये नगदी, 6680 बांग्लादेशी टाका और एक मोबाइल जब्त किया गया है. लाल्टू ने बीएसएफ पूछताछ में बताया है कि वह फैंसीडिल तस्करी के कारोबार में नियमित तौर पर शामिल रहता है. इसके बाद तीन और जगहों पर बीएसएफ की टीम ने छापेमारी की. नदिया जिले के कृष्णानगर सेक्टर में महाखोला बॉर्डर आउटपोस्ट के पास एक तस्कर ने फैंसीडिल की 98 बोतल लेकर सीमा पार करने की कोशिश की लेकिन बीएसएफ ने उसे धर दबोचा. उसका नाम रेजाउल करीम है. उसके बाद उत्तर 24 परगना के स्वरूप नगर थाना इलाके में भी सीमा पर फैंसीडिल की बोतलें तस्करी करने की कोशिश में जुटे तस्करों को रखेदा गया. वे भागने में सफल हो गए लेकिन अपने पीछे 100 बोतल फैंसीडिल की छोड़ गए. इसी तरह इसी क्षेत्र के हलदरपारा सीमा पर भी फैंसीडिल की 90 बोतलें जब्त किए गए हैं. कुल मिलाकर 940 बोतल जब्त हुई है जिसकी कीमत एक लाख 79 हजार 428 रुपये है. सभी तस्करों और जब्त फैंसीडिल को स्थानीय थाने को सौंप दिया गया है ताकि आगे की कानूनी कार्रवाई की जा सके.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*