Tuesday , 16 July 2019

स्मैक तस्कर को 5 वर्ष की सजा

कैथल, 13 जुलाई (उदयपुर किरण). जिला एवं सत्र न्यायाधीश  एम.एम.धौंचक ने बतौर विशेष न्यायाधीश नार्कोटिक ड्रग्स एंड साईकोट्रोपिक सबस्टैंसिज अधिनियम 1985 की धारा 21 बी के तहत विभिन्न दो मामलों में अभियुक्तों को दोषी ठहराते हुए कठोर कारावास एवं जुर्माने की सजा सुनाई गई. शनिवार को न्यायालय द्वारा प्रथम मामले में उरलाना जिला पानीपत निवासी संजय पुत्र पाले राम को 82 ग्राम स्मैक रखने का दोषी करार देते हुए उन्हें 5 वर्ष कठोर कारावास तथा 75 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है. जुर्माना अदा न करने की स्थिति में दोषी व्यक्ति को 9 माह अतिरिक्त सामान्य कारावास की सजा भुगतनी होगी. रिपोर्ट के अनुसार पुलिस द्वारा अभियुक्त को 9 जुलाई 2018 को पकड़ा गया था तथा व्यक्तिगत जांच के दौरान 82 ग्राम स्मैक बरामद की गई थी. सिविल लाईन पुलिस थाना में इसी दिन केस दर्ज किया गया था. पुलिस द्वारा न्यायालय में 8 मार्च 2019 को चालान पेश किया गया तथा उन्हें 18 मार्च 2019 को चार्ज शीट किया गया. मामले की पैरवी के दौरान प्रोसीक्यूशन द्वारा 18 प्रमाणिक दस्तावेज एवं 8 गवाह पेश किए गए.
जिला एवं सत्र न्यायाधीश एमएम धौंचक ने बतौर विशेष न्यायाधीश ने प्यौदा रोड निवासी बिमला पत्नी बलराज को 20 ग्राम स्मैक का दोषी ठहराते हुए 14 माह की कठोर कारावास की सजा सुनाई तथा जींद जिला के गांव रिटौली निवासी ईशमी पत्नी रोशन लाल को इस अधिनियम के तहत 15 ग्राम स्मैक रखने का दोषी ठहराते हुए एक वर्ष के कठोर कारावास तथा 15 हजार रुपए जुर्माना की सजा सुनाई. जुर्माना अदा न करने की स्थिति में 45 दिन की अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*