Sunday , 28 November 2021
हैदरपुरा एनकाउंटर की होगी मैजिस्टेरियल जांच, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दिया आदेश

हैदरपुरा एनकाउंटर की होगी मैजिस्टेरियल जांच, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दिया आदेश

जम्मू:हैदरपुरा में हुए एनकाउंटर को लेकर जारी विवाद के बीच अब उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने इस मुठभेड़ की मैजेस्टेरियल जांच कराए जाने का आदेश दिया है. सिन्हा ने ट्विटर पर इसकी जानकारी देते हुए यह भी कहा कि वह सुनिश्चित करेंगे की मामले में कोई अन्याय न हो. पंद्रह नवंबर को हैदरपुरा मुठभेड़ में दो नागरिकों को मौत को लेकर केंद्र शासित प्रदेश में राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है. विपक्षी पार्टियां इसकी न्यायिक जांच कराए जाने की मांग कर रही थीं.

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के कार्यालय के अकाउंट से ट्वीट किया गया, ‘हैदरपुरा एनकाउंटर में एडीएम रैंक के अधिकारी की अगुवाई में मैजिस्टेरियल जांच का आदेश दिया गया है. रिपोर्ट मिलते ही जम्मू-कश्मीर प्रशासन उचित कार्रवाई करेगी. जम्मू और कश्मीर प्रशासन निर्दोष नागरिकों के जीवन की रक्षा करने की प्रतिबद्धता दोहराता है और यह सुनिश्चित करेगा कि कोई अन्याय न हो.’

बता दें कि 15 नवंबर को श्रीनगर के हैदरपुर इलाके में एक शॉपिंग कॉम्पलेक्स में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान दो संदिग्ध आतंकियों की मौत के साथ ही दो नागरिकों की भी मौत हुई थी. पुलिस ने दोनों को आतंकियों का सहयोगी होने का दावा किया है, जबकि इनके परिवारों का आरोप है कि सुरक्षा बलों ने इनका इस्तेमाल ‘मानव ढाल’ के तौर पर किया.

मनोज सिन्हा का यह आदेश ऐसे समय में आया है जब दोनों नागरिकों के परिवार ने प्रेस एन्क्लेव में एक दिन पहले ही विरोध प्रदर्शन किया था और दोनों नागरिकों के शव वापस मांगे थे. हालांकि, सभी प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था और बाद में उन्हें जाने दिया गया. पुलिस कार्रवाई की वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया, ”निर्दोष नागरिकों के शव सौंपने के बजाय पुलिस ने अपने प्रियजनों के शवों की मांग करने के लिए परिवार के सदस्यों को ही गिरफ्तार कर लिया. अविश्वसनीय रूप से क्रूरता और संवेदनहीनता. कम से कम वे फौरन शव लौटा सकते हैं.’