Saturday , 27 November 2021
भारत-पाकिस्तान के बीच हो सकती है बाइलेटरल सीरीज, जगह भी तैयार; सिर्फ BCCI से ग्रीन सिग्नल का इंतजार

भारत-पाकिस्तान के बीच हो सकती है बाइलेटरल सीरीज, जगह भी तैयार; सिर्फ BCCI से ग्रीन सिग्नल का इंतजार

नई दिल्ली:भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमें हाल में टी20 वर्ल्ड कप 2021 में एक-दूसरे से भिड़ी थी, जहां भारत को पहली बार आईसीसी टूर्नामेंट के मुकाबलों में पाक टीम से हार मिली थी. लेकिन पिछले करीब नौ साल से दोनों टीमों के बीच कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं हुई है और अब अगर सबकुछ सही रहा तो भारत और पाकिस्तान के बीच बाइलेटरल सीरीज खेला जा सकती है. टी20 वर्ल्ड कप में भारत और पाकिस्तान के मुकाबले को दुनियाभर में करीब 16 करोड़ से ज्यादा लोगों ने देखा था और इसी से उत्साहित होकर दुबई क्रिकेट काउंसिल ने दोनों के बीच अपने यहां बाइलेटरल सीरीज कराने की पेशकश की है.

पीएसएल 2021, आईपीएल 2021 और हाल में टी20 वर्ल्ड कप 2021 जैसे बड़े टूर्नामेंटों की सफलतापूर्वक मेजबानी करने के बाद दुबई क्रिकेट काउंसिल के चेयरमैन अब्दुल रहमान फलकनाज को विश्वास है कि उनका देश सही मायनों में भारत और पाकिस्तान के बीच बाइलेटरल सीरीज के लिए सबसे सही जगह है. खलीज टाइम्स ने फलकनाज के हवाले से कहा, ‘सबसे अच्छी बात यह होगी कि भारत-पाकिस्तान के मैच यहां (दुबई) मुकाबले हों. जब पहले शारजाह में भारत और पाकिस्तान के मुकाबले होते थे, तो यह युद्ध जैसा होता था. लेकिन यह अच्छी लड़ाई थी और खेल इसके केंद्र में था. भविष्य में भारत और पाकिस्तान सीरीज की मेजबानी के लिए तैयार हैं.’

उन्होंने कहा, ‘मुझे याद है कि राज कपूर एक बार अपने परिवार के साथ आए थे. अवॉर्ड्स नाइट के दौरान उन्होंने माइक लिया और कहा था, ‘शारजाह में भारत-पाकिस्तान की ये लड़ाई कितनी शानदार है. क्रिकेट लोगों को एक साथ लाता है, क्रिकेट ने हमें साथ लाया है और हमें इसे ऐसे ही रहने देना चाहिए.’ तो हम यही करना चाहते हैं. अगर हम भारत को साल में एक या दो बार पाकिस्तान के खिलाफ यहां आने और खेलने के लिए मना सकें, तो यह वाकई शानदार होगा.’

गौरतलब है कि पाकिस्तान भी पिछले कुछ समय से भारत के साथ द्विपक्षीय सीरीज खेलने की बात कर रहा है, लेकिन बीसीसीआई की तरफ से उसे कोई जवाब नहीं मिल रहा है. पाकिस्तान के बाद अब दुबई क्रिकेट काउंसिल को भी बीसीसीआई से ग्रीन सिग्नल का इंतजार है. बीसीसीआई की तरफ से अगर हरी झंडी मिलती है तो दर्शकों को काफी समय के बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज देखने को मिल सकती है. भारत और पाकिस्तान के बीच खराब राजनीतिक रिश्तों के कारण दोनों देशों के बीच 2012-13 के बाद से कोई भी बाइलेटरल सीरीज नहीं खेली गई है. दोनों टीमें केवल आईसीसी इवेंट में ही एक-दूसरे के खिलाफ खेल रही हैं.